सेंचुरियन: शॉन पोलाक को पीछे छोड़ डेल स्टेन दक्षिण अफ्रीका के सबसे सफल टेस्ट गेंदबाज बन गए हैं. हालांकि, उन्हें इसके लिए लंबा इंतजार करना पड़ा क्योंकि स्टेन ने अपना 400वां टेस्ट विकेट जुलाई, 2015 में लिया था. इसके बाद 422 विकेट तक पहुंचने में उन्हें करीब साढ़े तीन साल का वक्त लग गया. इधर, यह उपलब्धि हासिल करने के बाद शॉन पोलाक ने स्टेन को देश का सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाज करार दिया.

स्टेन ने बुधवार को सुपर स्पोर्ट पार्क में पाकिस्तान के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन फखर जमां (12) को तीसरी स्लिप में कैच कराके 422वां टेस्ट विकेट हासिल किया. फखर जमां के विकेट के साथ स्टेन के लिए तीन साल से अधिक के निराशाजनक समय का भी अंत हुआ. इस दौरान यह तेज गेंदबाज चोट के कारण 27 टेस्ट मैचों में नहीं खेल पाया.

पोलाक के नाम पर 108 टेस्ट में 23.11 की औसत से 421 विकेट दर्ज हैं. मौजूदा टेस्ट से पहले तक स्टेन के नाम 88 टेस्ट में 22.64 की औसत से 421 विकेट थे. स्टेन ने जैसे ही फखर जमां को तीसरी स्लिप में डीन एल्गर के हाथों कैच कराया, वैसे ही टीम के साथियों ने बधाई देने के लिए उन्हें घेर लिया. नई गेंद के उनके जोड़ीदार कागिसो रबादा ने उन्हें कंधे पर उठा लिया.

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका द्वारा जारी बयान में पोलाक ने कहा, ‘‘स्वदेश और विदेश दोनों जगह स्टेन का प्रदर्शन शानदार है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘पिछले कुछ समय में उसे चोटों का सामना करना पड़ा है जो यह नहीं दर्शाता कि पूरे करियर के दौरान उसने कितनी अच्छी तरह अपने शरीर और फिटनेस का ख्याल रखा है.’’ पोलाक ने कहा कि स्टेन का रिकॉर्ड उन्हें दक्षिण अफ्रीका का सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाज बनाता है.

हम आपको खेलने नहीं, जीतने के लिए पैसे देते हैं- इसी बयान से शुरू हुआ था बॉल टेम्परिंग का खेल! स्टीवन स्मिथ ने किया इशारा

भारत में ग्रोइन की चोट के कारण टेस्ट के बीच से हटने से पूर्व स्टेन दिसंबर 2009 से नवंबर 2015 तक लगातार 48 टेस्ट खेले. इस दौरान उन्होंने 21.72 के औसत से 232 विकेट चटकाए. इस दौरान आईसीसी की गेंदबाजों की रैंकिंग में उनका दबदबा रहा और वह रिकॉर्ड 263 हफ्तों तक शीर्ष पर रहे.

डेब्यू मैच में अपनी बैटिंग से खुश हैं मयंक अग्रवाल, लेकिन कहा- मैं और टिक कर खेलना चाहता था

स्टेन ने जुलाई 2015 में 80वें टेस्ट में अपना 400वां टेस्ट विकेट हासिल किया और माना जा रहा था कि वह जल्द ही पोलाक का रिकॉर्ड तोड़ देंगे. स्टेन को हालांकि इसके बाद चार गंभीर चोटों का सामना करना पड़ा जिसके कारण उनका इंतजार बढ़ गया.

SA Vs PAK: पाकिस्तान को 181 पर समेटने के बाद लड़खड़ाया दक्षिण अफ्रीका, 127 रन पर पांच विकेट गिरे

भारत में ग्रोइन की चोट के बाद दिसंबर 2015 में इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में उनके कंधे में चोट लगी. इससे वापसी करने के कुछ दिनों बाद नवंबर 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनके कंधे में और गंभीर चोट लगी जिसके कारण वह 15 टेस्ट नहीं खेल पाए. जब लग रहा था कि वह पूरी तरह से उबर गए हैं, तभी भारत के खिलाफ इस साल जनवरी में पहले टेस्ट में उनके टखने में चोट लगी और वह टीम इंडिया के खिलाफ बाकी टेस्ट के अलावा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में भी नहीं खेल पाए.

स्टेन अब सर्वाधिक टेस्ट विकेट चटकाने वाले गेंदबाजों की सूची में 11वें स्थान पर हैं. वह न्यूजीलैंड के रिचर्ड हैडली (431 विकेट) को पछाड़कर शीर्ष 10 में जगह बना सकते हैं.