Sachin Tendulkar reacts Also Read - IIT, NIT Studies in Mother Tongue: अगले सेशन से IIT,NIT में मातृ भाषा में होगी इंजीनियरिंग की पढ़ाई, शिक्षा मंत्रालय ने दी ये जानकारी

क्रिकेट दिग्गज और राज्यसभा सांसद सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट अकादमी खोलने की योजना और इसके लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), दिल्ली से जमीन मांगने की बात से रविवार को इंकार कर दिया और कहा कि इस तरह की खबरों से वह स्तब्ध हैं। तेंदुलकर ने सोशल वेबसाइट ट्विटर पर लिखा, “मैं इस प्रकार की खबरें देखकर स्तब्ध हूं कि मैंने आईआईटी दिल्ली से अपनी अकादमी खोलने के लिए जमीन मांगी।” Also Read - IN Pics: 26/11 हमले की 12वीं वर्षगांठ पर Sachin-Virat-Sehwag छलका दर्द, इस तरह किया शहीदों को याद

तेंदुलकर के अनुसार न ही उन्होंने किसी प्रकार की अकादमी खोलने की योजना बनाई है और न ही जमीन की ही मांग की। Also Read - महान फुटबॉलर मैराडोना के निधन से क्रिकेट जगत में शोक; सौरव गांगुली ने कहा- मेरा हीरो नहीं रहा

तेंदुलकर की तरफ से यह स्पष्टीकरण ऐसे समय में है, जब मीडिया में रपट आई कि आईआईटी-दिल्ली के निदेशक रघुनाथ के. सेवगांवकर ने इसलिए अपना पद छोड़ दिया, क्योंकि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने उनपर दबाव बनाया था कि तेंदुलकर को एक क्रिकेट अकादमी खोलने के लिए आईआईटी की जमीन दे दी जाए।

तेंदुलकर ने इस खबर का खंडन करते हुए कहा कि बेहतर होता कि अगर इस तरह की खबर छापने से पहले तथ्यों का पता लगाया जाता।

मीडिया में आई एक रपट के अनुसार, सेवगांवकर पर संस्था के पूर्व प्राध्यापक और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता सुब्रमण्यम स्वामी को 1972 से 1991 के बीच के बकाया वेतन भुगतान के तौर पर 70 लाख रुपये देने का भी दबाव था।