सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को इसमें कोई संदेह नहीं कि अगर डीन जोन्स (Dean Jones) टी20 क्रिकेट के जमाने में खेल रहे होते तो बल्लेबाजों में उनकी सबसे अधिक मांग होती। ऑस्ट्रेलिया के 59 वर्षीय पूर्व क्रिकेटर का गुरुवार को मुंबई के एक होटल में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) की कमेंट्री के सिलसिले में भारत में थे।Also Read - Sri Lanka vs India, 3rd T20I: Wanindu Hasaranga का बड़ा कारनामा, Sachin Tendulkar की कर ली बराबरी

तेंदुलकर ने आस्ट्रेलिया के 1991-92 दौरे को भी याद किया और कहा जब वह युवा थे तब उन्हें जोन्स को बल्लेबाजी करते हुए देखना पसंद था। उनका मानना है कि जोन्स की बेपरवाह बल्लेबाजी को देखते हुए वह टी20 क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करते। Also Read - Sachin Tendulkar को मिला नया पार्टनर, बोले- सोशल मीडिया पर आज करा रहा हूं डेब्यू

तेंदुलकर ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘वह निश्चित तौर पर सबसे लोकप्रिय टी20 खिलाड़ी होते। इसमें कोई संदेह नहीं। अगर वह नीलामी में होते तो डीनो (जोन्स) की सबसे अधिक मांग होती। वह शानदार स्ट्रोक प्लेयर थे। विकेटों के बीच दौड़ में उनका कोई सानी नहीं था और बेहतरीन क्षेत्ररक्षक थे। उनमें वह सब चीजें थी जो टी20 में चाहिए होती हैं। ’’ Also Read - Tokyo Olympics 2020: Mirabai Chanu ने ओलंपिक मेडल जीतकर रचा इतिहास, Sachin Tendulkar का ट्वीट- आपने भारत को गौरवान्वित किया

तेंदुलकर ने कहा, ‘‘वह वनडे के इतने अच्छे खिलाड़ी थे कि वह टी20 क्रिकेट में आसानी से सामंजस्य बिठा लेते। क्रिकेट के प्रारूप गतिशील हैं और लेकिन वह जरूरत के हिसाब से खुद को ढाल लेते और टी20 में शीर्ष खिलाड़ियों में से एक होते। ’’

तेंदुलकर ने याद किया कि कैसे अस्सी के दशक में में जोन्स तेज गेंदबाजों पर हावी हो जाते थे जबकि आक्रामक बल्लेबाजी का जमाना नहीं था।

उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने अस्सी के दशक और नब्बे के दशक के शुरू में जो भी क्रिकेट खेली और वह अपने समय से आगे के खिलाड़ी थे। वह तेज गेंदबाजों पर हावी हो जाते थे और यह अस्सी के दशक की बात है। ’’