नई दिल्ली : इंडियन सुपर लीग के नए सत्र की शुरुआत से पहले केरल ब्लास्टर्स टीम में अपनी हिस्सेदारी बेचने के बाद महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने रविवार को कहा कि उनके दिल का एक हिस्सा हमेशा इस फुटबॉल फ्रेंचाइजी के लिए धड़कता है. तेंदुलकर हमेशा से ब्लास्टर्स टीम के ढांचे का अहम हिस्सा रहे हैं और उन्हें अधिकतर मैचों के दौरान टीम की हौसलाअफजाई करते हुए देखा जा सकता था.Also Read - IND vs PAK मैच में विराट कोहली-बाबर आजम मुकाबले पर होगी फैंस की नजरें; जानिए क्या कहते हैं आंकड़े

Also Read - IND vs PAK, T20 World Cup 2021: ...जब पसली में फ्रैक्चर के बावजूद खेलते रहे Sachin Tendulkar, खुद Shoaib Akhtar ने पूछा था हाल

तेंदुलकर ने बयान में कहा, ‘‘पांचवें साल में यह महत्वपूर्ण है कि क्लब अगले पांच साल और इसके बाद के लिए आधारशिला तैयार करे. साथ ही यह मेरे लिए समय था कि मैं अपनी भूमिका पर विचार करूं. इस पर विचार करने और टीम के साथ बात करने के बाद मैंने सह प्रमोटर के रूप में केरल ब्लास्टर्स के साथ अपने जुड़ाव से बाहर निकलने का फैसला किया है.’’ तेंदुलकर 2014 में शुरुआत से ही इस फ्रेंचाइजी के साथ जुड़े हुए थे. Also Read - Cricket Viral Video: आखिर कौन है ये 'मिस्ट्री स्पिनर', जिसने पूरे वर्ल्ड में मचा दिया तहलका!

PAKvsHK: हॉन्ग कॉन्ग के खिलाफ पहला मैच खेलने उतरेगी पाक टीम, बाबर आजम के पास रिकॉर्ड तोड़ने का मौका

गौरतलब है कि इंडियन सुपर लीग की टीम केरला ब्लास्टर्स 2014 में बनी थी और इस साल पदार्पण मैच खेला. इस सीजन में केरला ने कुल 14 मैच खेले, जिनमें 5 मैचों में जीत हासिल की. जब कि 5 मैचों में हार का सामना किया. इसके अलावा 4 मैच ड्रॉ रहे. इसमें टीम फाइनल तक पहुंची.

INDvsPAK: विराट कोहली के बिना जीत हासिल करेगी टीम इंडिया, अंबाती रायुडू ने धोनी पर जताया भरोसा

इसके बाद साल 2015 में भी केरला 14 मैच खेले. यह सीजन उसके लिए अच्छा नहीं रही. केरला ब्लास्टर्स को इस सीजन में 3 मैचों ही जीत मिल पायी. इस तरह 2016 का सीजन खेला गया, जो कि अच्छा रहा. साल 2017-18 में केरला ने 18 मैच खेलते हुए 6 मुकाबले जीते. वहीं 5 मैचों में हार का सामना किया.