नई दिल्ली: महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने शिक्षक दिवस के अवसर पर अपने बचपन के कोच मरहूम रमाकांत आचरेकर को गुरुवार को श्रद्धांजलि दी. सचिन ने ट्विटर पर कोच के साथ तस्वीर भी साझा की और उन्होंने लिखा कि अध्यापक केवल शिक्षा ही नहीं बल्कि मूल्य भी देते हैं. आचरेकर सर ने मुझे सीधे (स्ट्रेट) खेलना सिखाया, केवल मैदान पर नहीं बल्कि जिंदगी में भी.

 

उन्होंने आगे लिख कि मेरी जिंदगी में उनके अमूल्य योगदान के लिए मैं हमेशा उनका ऋणी रहूंगा. उनकी सीख मुझे आज भी गाइड करती है. आचरेकर ने सचिन और उनके बचपन के दोस्त विनोद कांबली को बचपन से क्रिकेट के गुर सिखाए और भारतीय टीम के दरवाजे पर पहुंचाया. 87 साल के आचरेकर का इसी साल जनवरी में देहांत हो गया था.

आचरेकर को मिले थे ये अवार्ड
आचरेकर को 2010 में पद्मश्री और 1990 में द्रोणाचार्य अवार्ड मिला था. सचिन और कांबली के अलावा आचरेकर ने विदर्भ को दो बार रणजी ट्रॉफी का खिताब दिलाने वाले चंद्रकांत पंडित जैसे कई अन्य खिलाड़ियों को क्रिकेट के गुर सिखाए थे.