नई दिल्ली : महान भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के नाम पहली बार बनाये कई रिकॉर्ड हैं लेकिन महिला हज्जाम नेहा और ज्योति से ‘पहली बार दाढ़ी बनवाना’ निश्चित रूप से उनके लिये गर्व का क्षण होगा. तेंदुलकर ने ऐसा भारत में मौजूद लिंग संबंधित रूढ़िवादिता को तोड़ने में अपना योगदान देने के लिये किया. इस पेशे में अभी तक पुरूषों का ही वर्चस्व माना जाता रहा है लेकिन उत्तर प्रदेश की बनवारी टोला गांव की नेहा और ज्योति ने अपने पिता के बीमार होने के बाद 2014 में उनकी जिम्मेदारी संभालने का फैसला किया.

हालांकि इन दोनों के लिये यह सफर आसान नहीं था क्योंकि शुरू में लोग महिला हज्जाम से दाढ़ी नहीं बनवाते या बाल नहीं कटवाते थे. जिलेट इंडिया के विज्ञापन में उनकी प्रेरणादायी कहानी को उजागर किया गया जिसे लोग काफी पसंद कर रहे हैं. इस विज्ञापन को यूट्यूब को 1.60 करोड़ लोगों ने देखा है. इसके बाद ही तेंदुलकर ने इन दोनों से दाढ़ी बनवाने का फैसला किया.

टीम इंडिया में शामिल होने चाहता है ये खिलाड़ी, IPL 2019 में किया शानदार प्रदर्शन

तेंदुलकर ने फिर इसे इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया. उन्होंने लिखा, ‘‘आप शायद इसे नहीं जानते, लेकिन मैंने कभी भी किसी से शेव नहीं बनवायी. आज यह रिकॉर्ड टूट गया. इन महिला हज्जाम से मिलना सम्मान की बात है.’’ तेंदुलकर ने इन दोनों को जिलेट स्कॉलरशिप भी प्रदान की जिनमें उनकी शैक्षिक और पेशेवर जरूरतों को पूरा किया जायेगा.

शुभमन के फैन हुए दिनेश कार्तिक, शानदार प्रदर्शन के बाद की तारीफ

बता दें कि सचिन क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद कई तरह के सामाजिक कार्यों को करने में जुट गए हैं. इससे पहले भी वो सफाई और सड़क सुरक्षा को लेकर लोगों को जागरूक करते रहे हैं. यही वजह है कि उनकी फैन फॉलोइंग में बिल्कुल भी कमी नहीं आयी है.