नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट में सचिन और कांबली की जोड़ी बॉलीवुड के जय-वीरू की तरह है. दोनों बचपन के संगी हैं, एक ही गुरू के शागिर्द हैं. मुंबई के मैदानों पर इनका क्रिकेट जीवन साथ-साथ बीता. इस जोड़ी ने अपनी ताकत से हलचल उस वक्त मचाया जब साल 1988 में मुंबई के आजाद मैदान इनके बीच 664 रन की बड़ी पार्टनरशिप हुई. इनकी दोस्ती की दास्तान मुंबई के मैदानों से शुरू होकर भारतीय क्रिकेट तक चली. हालांकि, आगे चलकर इसमें दरार भी पड़ी. लेकिन, अब सबकुछ ठीक-ठाक है. Also Read - राशिद लतीफ पाकिस्तान से मेरे फैंस के खत लाता था : विनोद कांबली

Also Read - Happy Birthday Sachin: कोहली, शास्त्री सहित खेल जगत ने सचिन तेंदुलकर को 47वें जन्मदिन पर दी बधाई, जानें किसने क्या कहा

सचिन-कांबली फिर साथ-साथ Also Read - वसीम जाफर ने ऑल टाइम मुंबई XI टीम का किया ऐलान, सुनील गावस्कर को बनाया कप्तान

अब खबर है कि क्रिकेट के बहाने सचिन और कांबली का याराना एक बार फिर से मैदान पर देखने को मिलेगा. दोनों के बीच का ये याराना इस बार किसी क्रिकेट मैच को लेकर नहीं बल्कि बेहतर क्रिकेटर तराशने में दिखेगा. जी हां, रामाकांत आचरेकर की बताई क्रिकेट की बारीकियों को सचिन और कांबली अब मुंबई के नए दौर के क्रिकेटरों के साथ शेयर करने वाले हैं.

इस मामले में डिविलियर्स से 21% और सचिन से 62 % बेहतर बल्लेबाज हैं विराट कोहली

सचिन की ‘टीम’ में कांबली

दरअसल, विनोद कांबली उस टीम का हिस्सा बन गए हैं जिसे सचिन ने अपनी क्रिकेट एकेडमी के लिए तैयार किया है . सचिन ने ये एकेडमी इंग्लिश काउंटी मिडिलसेक्स के साथ मिलकर खोली है और इसका नाम तेंदुलकर-मिडिलसेक्स ग्लोबल एकेडमी है. एक इंटरव्यू में सचिन ने कहा, ” विनोद और मैंने स्कूल टाइम से क्रिकेट साथ खेली है. हाल ही में जब हमारी मुलाकात हुई तो मैंने उसे अपने प्रोजेक्ट के बारे में बताया, जो विनोद को पसंद आया और वो इसमें अपना योगदान देने को तैयार हो गया. मुझे खुशी है कि वो हमारी टीम का हिस्सा है.”

एकेडमी का मास्टर-प्लान

तेंदुलकर-मिडिलसेक्स ग्लोबल एकेडमी का कोचिंग और टैलेंट स्पॉटिंग कैंप मुंबई के डीवाई पाटिल स्टेडियम में 1 से 4 नवंबर तक, MIG क्लब, बांद्रा में 6 से 9 नवंबर तक 7 से 17 साल के उम्र तक के बच्चों के लिए और 13 से 18 साल के उम्र के बच्चों के लिए लगेगा. कैंप 12-15 नवंबर और 17-20 नवंबर के लिए पुणे में भी लगाया जाएगा.

जिंदा है यारी

कांबली को इस तरह खुद के साथ जोड़ने से एक बात तो साफ है कि तमाम विवादों के बावजूद तेंदुलकर के दिल में आज भी अपने बचपन के यार के लिए जगह है. अच्छी बात ये है ये याराना एक बार फिर से क्रिकेट के बहाने ही मैदान पर दिखने जा रहा है.