नई दिल्ली : भारत और पाकिस्तान के बीच विश्व कप में होने वाले मैच के क्या मायने होते हैं इस बात को क्रिकेट के भगवान से बेहतर कौन जान सकता है. भारत और पाकिस्तान के बीच विश्व कप में छह मैच खेले हैं जिसमें से सचिन ने पांच में हिस्सा लिया है. सचिन ने 1992, 1996, 1999, 2003, 2011 में विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच खेले हैं. सचिन का कहना है कि 2011 में विश्व कप जीतने के बाद उनकी जिंदगी में 2003 विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ खेला गया मैच उनके पसंदीदा विश्व कप मैचों में से एक है. सचिन ने उस मैच में 98 रनों की पारी खेली थी. Also Read - शिखर धवन ने अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में पूरे किए 10 साल, फैन्‍स के साथ इस तरह शेयर की स्‍पेशल मूमेंट की खुशी

Also Read - Happy Birthday Virender Sehwag: टेस्ट क्रिकेट में 2 ट्रिपल सेंचुरी जड़ने वाले इकलौते भारतीय हैं 'नजफगढ़ के नवाब', यहां देखें उनके कुछ चुनिंदा रिकॉर्डस

सचिन ने कहा, “2011 में विश्व कप जीतने के बाद अगर कोई यादगार पल है तो वो है 2003 में पाकिस्तान के खिलाफ सेंचुरियन में खेला गया मैच. उस मैच को लेकर जो माहौल बना था और हम जिस तरह से खेले और जीते थे वो शानदार था. साथ ही हमने जिस तरह से उस जीत का जश्न मनाया था और उसके बाद हम टूर्नामेंट में जिस तरह से आगे बढ़े थे वो बेहतरीन था, इसमें कोई शक नहीं है, वो विशेष है.” Also Read - IPL 2020: किंग्स इलेवन पंजाब के इस फैसले से हैरान हैं सचिन तेंदुलकर, बोले- इस खिलाड़ी को बाहर क्यों रखा?

भारत-पाक मैच से पहले मैनचेस्टर में बढ़ी सुरक्षा, ICC ने पूरी की तैयारी

सचिन ने उस मैच में 75 गेंदों पर 98 रनों की पारी खेली थी. सचिन ने उस मैच में बेहतरीन बल्लेबाजी की थी और वसीम अकरम, वकार यूनिस, शोएब अख्तर जैसे दिग्गज गेंदबाजों पर खूब रन बटोरे थे. सचिन को इस पारी के लिए मैन ऑफ द मैच मिला था.

भारत-पाक मैच को दौरान बारिश बन सकती है विलेन, देखें क्या है मौसम का हाल

सचिन के लिए हालांकि उस पुरस्कार से ज्यादा वो खुशी मायने रखती है जो उन्होंने प्रशंसकों के चेहरे पर देखी थी. सचिन ने कहा, “पूरा देश जश्न मना रहा था और मुझे याद है कि उस समय मेरे कई दोस्त मुझे फोन कर रहे थे और पटाखों, प्रशंसकों की आवाजें सुना रहे थे. हर कोई जश्न मना रहा था.”