नई दिल्‍ली: भारतीय क्रिकेट के पहले इंटरनेशनल स्‍टार सचिन रमेश तेंदुलकर आज 45 वर्ष के हो गए. खेल के मैदान पर किंवदंती बन चुके सचिन के नाम हर रिकॉर्ड हैं. सबसे ज्‍यादा शतक, सबसे ज्‍यादा रन, 24 साल का इंटरनेशनल करियर और अनगिनत ऐसी पारियां जो भारतीय टीम के लिए जीत का आधार बनीं. भारतीय टीम में शामिल होने से पहले ही सचिन क्रिकेट प्रॉडिजी के रूप में मशहूर हो चुके थे, लेकिन अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में उनकी पहली झलक पाकिस्‍तान के खिलाफ एक एक्‍जीबिशन मैच में दिखी थी. आज जब पूरी दुनिया मास्‍टर ब्‍लास्‍टर को जन्‍मदिन की बधाइयां दे रहा है, हम लाए हैं उनके क्रिकेट करियर की कुछ चुनिंदा तस्‍वीरें, जो उनके अद्भुत टैलेंट, क्रिकेट के प्रति प्रतिबद्धता और हर कीमत पर जीत हासिल करने की जिजीविषा को दर्शाती हैं.

1989 का पाकिस्‍तान दौरा: फैसलाबाद में अब्‍दुल कादिर हुए पहला शिकार
1989 में भारतीय टीम का पाकिस्‍तान दौरा सचिन तेंदुलकर का डेब्‍यू सीरीज था. उन्‍होंने सीरीज के चारों टेस्‍ट मैच खेले और दो हाफ सेंचुरी के साथ 215 रन बनाए, लेकिन उनके टैलेंट की असली झलक फैसलाबाद के एक्‍जीबिशन मैच में देखने को मिली जब उन्‍होंने पाकिस्‍तान के नंबर वन लेग स्पिनर अब्‍दुल कादिर के एक ओवर में 28 रन जड़ दिए.

1 copy

1990- पहली टेस्‍ट सेंचुरी
डेब्‍यू के करीब एक साल बाद सचिन ने अपने करियर की पहली सेंचुरी लगाई थी जब इंग्‍लैंड के खिलाफ ओल्‍ड ट्रैफर्ड के मैदान पर उन्‍होंने 189 गेंदों पर 119 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी. रोचक यह है कि अपने पूरे करियर में नंबर चार पर बल्‍लेबाजी करने वाले सचिन इस मैच में छठे नंबर पर बल्‍लेबाजी के लिए आए थे.

Sachin-Tendulkar 1st test century

1994- पहली वनडे सेंचुरी
1989 में पहला वनडे खेलने के बाद सचिन को अपनी पहली सेंचुरी के लिए पांच साल इंतजार करना पड़ा. उन्‍होंने अपने 79वें मैच में सिंगर कप के दौरान ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ पहली सेंचुरी लगाई. 130 गेंदों पर 110 रन की उनपकी पारी की बदौलत टीम इंडिया ने इस मुकाबले में ऑस्‍ट्रेलिया को शिकस्‍त दी थी.
first-ODI hundred

24 अप्रैल, 1998- शारजाह में नेस्‍तनाबूद हुआ ऑस्‍ट्रेलिया
सचिन के क्रिकेट करियर की कोई भी चर्चा ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ 1998 में शारजाह में उनकी पारियों के बगैर पूरी नहीं हो सकती. उन्‍होंने दो लगातार मैचों में दो सेंचुरी लगाकर न केवल दोनों में भारतीय टीम को जीत दिलाई, बल्कि चैंपियन भी बनाया.

sharjah

31 मार्च 2001- वनडे में 10 हजार रन पूरे करने वाले पहले खिलाड़ी
सचिन को अंतरराष्‍ट्रीय वनडे मैचों में सबसे पहले 10 हजार रन पूरे करने का रिकॉर्ड है. उन्‍होंने इंदौर के होल्‍कर स्‍टेडियम में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल की थी.
sachin 10000 runs

10 दिसंबर 2005- गावस्‍कर के सबसे ज्‍यादा शतकों के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा
सचिन ने अपने करियर के पहले छह वर्षों में 38 टेस्‍ट खेले और 8 सेंचुरी ही लगा पाए थे, लेकिन अगले आठ वर्षों में उन्‍होंने इससे तीन गुना ज्‍यादा शतक लगा दिए. 11 दिसंबर 2004 को उन्‍होंने बांग्‍लादेश के खिलाफ 248 रनों की पारी खेलकर टेस्‍ट मैचों में सबसे ज्‍यादा 34 शतकों के सुनील गावस्‍कर के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली. लेकिन उनसे आगे निकलने के लिए सचिन को एक साल प्रतीक्षा करनी पड़ी. अपने 125वें टेस्‍ट में श्रीलंका के खिलाफ उन्‍होंने यह रिकॉर्ड अपने नाम किया.
35th

16 मार्च, 2012- 100वां अंतरराष्‍ट्रीय शतक
इसकी प्रतीक्षा लंबे समय से थी क्‍योंकि सचिन को करीब एक साल तक 99 शतकों पर रुकना पड़ा. कई बार सेंचुरी के करीब पहुंचकर वे आउट हो गए. अंतत: बांग्‍लादेश के खिलाफ वनडे मैच में सेंचुरी लगाकर उन्‍होंने अंतरराष्‍ट्रीय मैचों में 100 शतक को आंकड़ा पूरा किया. उनकी इस उपलब्धि की बराबरी आज तक कोई खिलाड़ी नहीं कर पाया है और न ही निकट भविष्‍य में इसकी संभावना है.
tendulkar-100th-century

16 नवंबर, 2013: 22 गज की पिच से दूर हुआ मास्‍टर ब्‍लास्‍टर
वेस्‍टइंडीज के खिलाफ मुंबई के वानखेड़े स्‍टेडियम पर वेस्‍टइंडीज के खिलाफ सचिन ने अपने टेस्‍ट करियर का आखिरी मैच खेला. 24 साल लंबे करियर के बाद टीम इंडिया ने जीत के साथ उन्‍हें विदाई दी, लेकिन जीत-हार से ज्‍यादा इस मैच का वो दृश्‍य दर्शकों को अब भी भावुक कर जाता है जिसमें दोनों टीमें मैच खत्‍म होने के बाद सचिन को गार्ड ऑफ ऑनर देती हुई दिखाई देती हैं.
sachin-tendulkar

 

फोटो- यूट्यूब