भारत कोरोनावायरस (Coronavirus) की चपेट में है. जिससे निजात पाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशव्‍यापी लॉकडाउन की घोषणा की है. इस लॉकडाउन के चलते दिहाड़ी मजदूरों के लिए भुखमरी जैसी स्थिति पैदा हो गई है. ऐसे में बड़ी संख्‍या में खिलाड़ी, एथलीट व खेल संघों ने मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है. इसी बीच खबर आई की पूर्व भारतीय कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की तरफ से कोरोनावायरस से पैदा हुई आपदा की स्थिति के लिए महज एक लाख रुपये की रकम ही दी गई है. साक्षी धोनी ऐसी खबरों से काफी नाराज हैं. Also Read - पूर्व इंग्लिश बल्लेबाज इयान बेल ने याद किया 2011 का 'रन आउट विवाद'; कहा- मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था

साक्षी धोनी ने इन खबरों को फर्जी करार देते हुए मीडियो संस्‍थानों पर अपना गुस्‍सा निकाला. साक्षी ने अपने ट्विटर के माध्‍यम से लिखा, “मैं सभी मीडिया संस्‍थानों से यह अपील करती हूं की वो इस तरह की झूठी खबर को दिखाना बंद करें. संवेदनशील वक्‍त पर इस तरह की रिपोर्टिंग नहीं होनी चाहिए. आपको शर्म आनी चाहिए. मैं सोच रही हूं कि जिम्‍मेदारी भरी पत्रकारिता अब कहां गायब हो गई है.” Also Read - UP: CM योगी का निर्देश, शवों को बहाने पर रोक लगाने के लिए पुलिस नदियों में करे गश्त

एक दिन पहले ही खबरें आई थी की पूर्व भारतीय कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी ने पूणे की एक फाउंडेशन को कोरोनावायरस के खिलाफ काम करने के लिए एक लाख रुपये का अनुदान दिया है. 800 करोड़ की संपत्ति वाले धोनी की तरफ से महज एक लाख रुपये की मदद किए जाने से उनके फैन्‍स भड़क गए और जमकर धोनी की ट्रोलिंग शुरू कर दी गई.

इससे पहले बीसीसीआई अध्‍यक्ष सौरव गांगुली ने कोरोनकोरोनावायरस के खिलाफ मदद के लिए 50 लाख रुपये दान देने निर्णय लिया है. सचिन तेंदुलकर ने भी इस महामारी के वक्‍त में 25 लाख रुपये की मदद की है.