नई दिल्ली. मैं हूं सुपरमैन… सलमान का फैन… ये फिल्मी गाना मेलबर्न वनडे में टीम इंडिया के जिस क्रिकेटर पर सूट करता दिखा वो रहे केदार जाधव. केदार क्रिकेटर तो हैं ही लेकिन इस खेल को खेलने के साथ साथ बॉलीवुड के सुपरस्टार सलमान खान के भी बहुत बड़े फैन हैं. धोनी की ओट में सलमान के फैन केदार जाधव ने मेलबर्न में जो किया उसमें उनकी दबंगई साफ झलकी. जाधव ने 107. 01 की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करते हुए 57 गेंदों पर नाबाद 61 रन बनाए, जिसमें 7 चौके शामिल रहे. इस धमाकेदार पारी के दौरान उन्होंने धोनी के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए नाबाद 121 रन की साझेदारी भी की और मेलबर्न वनडे में टीम इंडिया की 7 विकेट से जीत में अहम भूमिका निभाई. Also Read - इशांत शर्मा ने कहा- 2013 के बाद महेंद्र सिंह धोनी को अच्छे से समझ पाया था

Also Read - आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री का बड़ा बयान, बोले-उनकी सरकार हांगकांग के निवासियों को पनाह देने के लिए विचार कर रही

धोनी ‘दिल’ में आते हैं ‘समझ’ में नहीं, यकीन न आए तो विराट की सुन लेना Also Read - पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ने बताया कौन सा विकेटकीपर बल्लेबाज लेगा धोनी की जगह

धोनी के दम पर ऑस्ट्रेलिया में ‘दहाड़ा’

मेलबर्न वनडे सीरीज का आखिरी मुकाबला जरूर था. लेकिन, केदार जाधव के लिए ऑस्ट्रेलिया में अपनी दबंगई दिखाने का पहला मौका था. इस बड़े मौके को भुनाते हुए उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को पटकनी दी और टीम इंडिया की जीत के सुल्तान बने. सलमान के बड़े फैन माने जाने वाले केदार अपनी इस शानदार सफलता का क्रेडिट एमएस धोनी को देते हैं. इस बात को वो मैच के बाद सोशल मीडिया पर भी बयां कर चुके हैं.

धोनी में साक्षी को दिखा ‘सोल्जर’, विराट पर अनुष्का को ‘गर्व’, टीम इंडिया की जीत पर ‘बीवियां’ खुश

‘माही भाई के साथ से बनी बात’

केदार जाधव ने अपने ट्विटर पर एमएस धोनी की एक फोटो शेयर करते हुए लिखा है, ” ग्रेट सीरीज माही भाई. आपसे हमेशा सीखने को मिलता है. मेलबर्न वनडे में भी बैटिंग के दौरान गाइड करने के लिए शुक्रिया. ”

इस ट्वीट से पहले चहल TV को दिए इंटरव्यू में भी जाधव ने ये कहा कि जब भी दिमाग में कोई सवाल होता माही भाई के पास उसका जवाब मिल जाता. इससे बल्लेबाजी करना आसान हो गया. केदार का ये इंटरव्यू चहल ने लिया है, जिसे BCCI ने अपने सोशल अकाउंट पर शेयर किया है.

सीधे शब्दों में कहें तो धोनी टीम इंडिया की हर टेंशन का इलाज हैं. उनके पास खिलाड़ियों के हर मर्ज की दवा है. फिर चाहे गेंदबाज अपनी लाइन लेंथ को लेकर परेशान हो, बल्लेबाज शॉट सलेक्शन को लेकर या फिर विराट कोहली अपनी कप्तानी को लेकर. फिक्र नॉट धोनी है ना!