नई दिल्ली: पहले घुटने की चोट और उसके बाद गर्भवती होने के कारण टेनिस कोर्ट से दूर रह रहीं दिग्गज भारतीय खिलाड़ी सानिया मिर्जा का कहना है कि वह 2020 टोक्यो ओलम्पिक खेलों में प्रतिस्पर्धा की आशा रखती हैं. हाल ही में एक इंटरव्यू में सानिया ने इस इच्छा को जाहिर किया. महिला युगल वर्ग में पूर्व वर्ल्ड नम्बर-1 सानिया अक्टूबर में अपने पहले बच्चे को जन्म देंगी. उन्होंने साक्षात्कार में अपने निजी जीवन और ओलम्पिक खेलों से पहले टेनिस कोर्ट में वापसी की उम्मीद के बारे में कई बातें साझा कीं. Also Read - इस बार की ईद कई अनगिनत कारणों से पहले जैसी नहीं रही: सानिया मिर्जा

Also Read - सानिया मिर्जा बनीं 'फेड कप हार्ट पुरस्कार' जीतने वाली पहली भारतीय, बोलीं- पुरस्‍कार राशि से...

सानिया ने कहा, “हम अब भी 2018 में हैं और मेरा लक्ष्य निश्चित तौर पर वापसी की कोशिश और 2020 ओलम्पिक खेलों में प्रतिस्पर्धा करना है.” उन्होंने कहा, “यह एक यथार्थवादी लक्ष्य है, क्योंकि इस साल के अंत तक मैं अपने बच्चे को जन्म दूंगी.” 31 वर्षीया सानिया ने कहा, “मैंने अपने जीवन में ‘महिला के पारंपरिक जीवन के तरीके’ का पालन नहीं किया. मैं हमेशा अलग चली हूं और इससे काफी खुश हूं.” Also Read - आज भी माता-पिता बेटी को खिलाड़ी की जगह डॉक्टर, वकील या टीचर बनाना चाहते हैं: सानिया मिर्जा

मार्टिन गप्टिल ने की रोहित शर्मा की बराबरी, टी-20 क्रिकेट में तोड़ा तेज शतक का रिकॉर्ड

सानिया ने कहा कि उनके फैसलों का उनके परिवार ने हमेशा पूरा समर्थन किया है, फिर चाहे उस दौरान हैदराबाद में टेनिस खेलने का फैसला हो, जब कोई टेनिस खेलने या विंबलडन जीतने का सपना भी नहीं देखता था, या फिर शादी करने और आठ साल बाद मां बनने का फैसला हो.

गुरु पूर्णिमा के मौके पर सचिन ने कोच को किया याद, आचरेकर सर के लिए लिखा ‘इमोशनल मैसेज’

सानिया ने कहा कि उन्होंने अपना जीवन अपनी शर्तो पर जिया है. उनका कहना है कि खेल उनके जीवन के सबसे अच्छे शिक्षकों में से हैं. उन्होंने कहा, “खेल ने ही हमें (सानिया और शोएब मलिक) हमें बहुत कुछ दिया है, लेकिन जो उपलब्धि हमने हासिल की है उसके लिए इसने हमसे काफी कुछ ले भी लिया है. लेकिन, हम मैदान पर और मैदान के बाहर दबाव को समझते हैं.”