इंदौर: महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास की अटकलों के बीच पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता संजय जगदाले ने कहा कि भारतीय टीम के पास 38 वर्षीय विकेटकीपर बल्लेबाज का सही विकल्प तुरंत मौजूद नहीं है, लेकिन चयन समिति को धोनी से मिलकर भविष्य के बारे में उनके मन की थाह लेनी चाहिए. जगदाले ने कहा, “धोनी एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं और उन्होंने भारतीय टीम के लिए हमेशा नि:स्वार्थ क्रिकेट खेला है. मेरे मत में भारतीय टीम के पास विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में अभी धोनी का उपयुक्त विकल्प तुरंत मौजूद नहीं है.” उन्होंने कहा, “चयनकर्ताओं को धोनी को यह भी बताना चाहिए कि वे भविष्य में उन्हें किस भूमिका में देखना चाहते हैं.” उन्होंने कहा कि जो खिलाड़ी खेल नहीं पाते थे, वो भी धोनी पर निशाना साध रहे हैं. सच्चे खिलाड़ी धोनी की कीमत जानते हैं. Also Read - Road Safety World Series T20 INDL vs BANL: पुराने अंदाज में दिखी सचिन-सहवाग की जोड़ी, वीरू ने 20 गेंदों में जड़ी फिफ्टी; 10 विकेट से जीता भारत

Also Read - Road Safety World Series 2021: जानें TV पर कैसे देख सकेंगे मैच, टाइमिंग और पूरा शेड्यूल

गौतम गंभीर का ‘दर्द’ छलका- जैसा मेरे, सचिन और वीरू के साथ हुआ, धोनी के साथ भी वैसा ही हो Also Read - Road Safety World Series 2021- IND L vs BAN L: आज से मैदान पर दिखेंगे पुराने दिग्गज, धमाल मचाएगी Sachin-Sehwag की जोड़ी

ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि टेस्ट प्रारूप से पहले ही संन्यास ले चुके धोनी ने अपना अंतिम वनडे खेल लिया है जो विश्व कप में भारत का सेमीफाइनल था और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए इस अहम मुकाबले में विराट कोहली की टीम को हार का मुंह देखना पड़ा था. इन कयासों पर बीसीसीआई के पूर्व सचिव ने कहा, “अपने संन्यास के बारे में फैसला करने के लिए हालांकि धोनी खुद परिपक्व हैं, लेकिन चयनकर्ताओं को उनसे मिलकर उसी तरह पता करना चाहिए कि पेशेवर भविष्य को लेकर उनके दिमाग में क्या चल रहा है, जिस तरह सचिन तेंदुलकर के संन्यास से पहले उनसे बात की गई थी.”

इंग्लैंड के जिस खिलाड़ी ने छीना वर्ल्डकप, अब उसी को सिर आंखों पर बैठा रहा न्यूजीलैंड, ये है वजह

जगदाले ने इस बात को खारिज किया कि विश्वकप में धोनी ने धीमी बल्लेबाजी की. बीसीसीआई के पूर्व सचिव ने कहा, “विश्व कप में धोनी मैचों के हालात और भारतीय टीम की जरूरतों के मुताबिक ही खेल रहे थे. सेमीफाइनल में भी वह सही रणनीति के साथ बल्लेबाजी कर रहे थे. दुर्भाग्य से वह निर्णायक क्षणों में रन आउट हो गए.” उन्होंने धोनी का बचाव करते हुए कहा, “यह कहना बेहद गलत होगा कि धोनी एक क्रिकेटर के रूप में चुक गए हैं. 38 साल की उम्र में किसी भी खिलाड़ी से उम्मीद नहीं की जा सकती कि वह उसी ऊर्जा और आक्रामकता के साथ खेलेगा, जैसा वह अपनी युवावस्था में खेलता था.”

आईसीसी हॉल ऑफ फेम में शामिल किए गए सचिन तेंदुलकर, जानें उनसे पहले किन भारतीय क्रिकेटरों को हासिल हुआ ये गौरव

वरिष्ठ क्रिकेट प्रशासक ने कहा, “धोनी की आलोचना कुछ ऐसे पूर्व क्रिकेटर भी कर रहे हैं जो अपने करियर के दौरान अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते थे. सच्चे खिलाड़ी धोनी की असली कीमत जानते हैं.” जगदाले ने हालांकि कहा कि भारतीय टीम की भविष्य की जरूरतों को देखते हुए विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में ऋषभ पंत (21) लगातार मौके दिए जाने चाहिए. उन्होंने जोर देकर कहा, “पंत को विश्वकप से पहले ही भारत की वन डे टीम में धोनी के साथ शामिल किया जाना चाहिए था. धोनी के साथ खेलकर पंत बहुत कुछ सीख सकते थे.”