नई दिल्ली: फीफा विश्व कप में हिस्सा ले रही टीमों के प्रशंसकों का जुनून आंका नहीं जा सकता. अपनी टीमों का समर्थन करने के लिए प्रशंसक हर जगह से रूस पहुंच रहे हैं, लेकिन एक प्रशंसक ने जुनून की हद को पार करते हुए 5,145 किलोमीटर का रास्ता दो पहियों पर तय कर रूस में प्रवेश किया. फीफा विश्व कप में गुरुवार को शाम 8.30 बजे मेजबान टीम रूस की भिड़ंत सऊदी अरब से हो रही है. ऐसे में फहद अल-याहया हर हाल में इस मैच में उपस्थित रहकर अपनी टीम का समर्थन करने के लिए इतना लंबा सफर तय कर मॉस्को पहुंचे. फदद ने 75 दिनों की यात्रा के बाद रियाद से मॉस्को में प्रवेश किया. Also Read - Saudi Arabia: राजद्रोह के आरोप में तीन सैनिकों को दी गई फांसी, रक्षा मंत्रालय में थे कार्यरत

Also Read - सऊदी अरब से 35 प्रतिशत कम कच्चे तेल की खरीद करेगा भारत, खरीद में विविधीकरण पर जोर

फाहद हाथों में अपने देश का राष्ट्रध्वज लेकर साइकिल पर सवार होकर चार देशों से होते हुए रूस मॉस्को में पहुंचे. वेबसाइट ‘फीफा डॉट कॉम’ को दिए बयान में सऊदी अरब के इस प्रशंसक ने कहा, “रियाद क्षेत्र के प्रिंस फेसल बेन बदार अब्दुल्लाजीज ने मुझे राष्ट्रध्वज दिया और मैं इसे 5,145 किलोमीटर का रास्ता तय करते मॉस्को में सऊदी अरब के दूतावास पहुंचा हूं. मैंने इस ध्वज को राजदूत राएद करीमिल को सौंपा.” Also Read - journalist Jamal Khashoggi की हत्‍या के अभियान को सऊदी अरब के प्र‍िंस ने दी थी मंजूरी: US Report

VIDEO: धवन का विकेट लेकर अफगान गेंदबाज ने किया कारनामा, ऐसा करने वाला पहला खिलाड़ी बना

सऊदी अरब के 28 वर्षीय साइकिलिस्ट फहद ने कहा, “मैं अपनी टीम का समर्थन करता चाहता था और इसीलिए, मैंने यह यात्रा की.” फहद इसके अलावा, सेंट पीटर्सबर्ग में सऊदी अरब की टीम बेस पहुंचे, जहां सऊदी अरब फुटबाल महासंघ के अध्यक्ष अदेल एजात ने उनका स्वागत किया.

अफगानिस्तान के खिलाफ धवन का धमाकेदार शतक, टेस्ट में ये कमाल करने वाले बने पहले भारतीय

इस सफर के दौरान फहद ने कई तरह की दिक्कतों का सामना किया. उन्हें पीठ में दर्द की शिकायत हुई और एक वक्त ऐसा भी आया, जब उनकी भिड़ंत लॉरी से हो गई लेकिन उनका सफर नहीं रुका और अब वह अपनी टीम की हौसलअफजाई के लिए रूस में हैं.