साकेत कुमार Also Read - पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज डीन जोन्स का 59 साल की उम्र में हुआ निधन; शोक में क्रिकेट जगत

Also Read - आज के दिन, 13 साल पहले धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने जीता था पहला टी20 विश्व कप

नई दिल्ली. कहते हैं खिलाड़ी खेल छोड़ देता है लेकिन खेलना नहीं भूलता. इसी की धमाकेदार मिसाल पेश की है टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेन्द्र सहवाग ने. 200 की स्ट्राइक रेट के साथ वीरू ने अपने तूफानी खेल से ठंडी में गर्मी का एहसास कराया और स्वीटजरलैंड की बर्फीली पिच पर आग लगा दी. Also Read - IPL 2020, SRH vs RCB: कोहली या वार्नर? बैंगलोर-हैदराबाद के मुकाबले में कौन मारेगा बाजी

सेंट मॉर्टिज में खेले जा रहे आईस क्रिकेट टूर्नामेंट में सहवाग ने धुआंधार पारी खेली और सिर्फ 31 गेंद पर 62 रन जड़ दिए. सहवाग ने अपने 50 रन सिर्फ 25 गेंदों पर जमाए. नजफगढ़ के नवाब की इस ताबड़तोड़ पारी में 5 छक्के और 4 चौके शामिल रहे.

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने मुल्तान के सुल्तान की इस नायाब पारी का आकलन करते हुए ट्विट किया, ” कुछ चीजें कभी नहीं बदलती और सहवाग का स्टाइक रेट उनमें से एक है.”

 

हालांकि, बर्फीले मैदान पर विस्फोटक वीरू का ये तूफान उनकी टीम को जीत नहीं दिला सका. बर्फ की पिच पर पहला अर्धशतक जड़ने का रिकॉर्ड तो सहवाग ने बनाया लेकिन उनकी टीम डायमंड को शाहिद अफरीदी की अगुवाई वाली रॉयल्स की टीम से हार का सामना करना पड़ा.

क्रिकेट का ककहरा सिखाने वाले कोच को लेकर सचिन तेंदुलकर ने दिया बड़ा बयान

क्रिकेट का ककहरा सिखाने वाले कोच को लेकर सचिन तेंदुलकर ने दिया बड़ा बयान

सहवाग को रॉयल्स के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने अपना शिकार बनाया. डायमंड की टीम ने 165 रन का लक्ष्य रखा था जिसे इंग्लैंड के पूर्व मिडिल ऑर्डर बैट्समैन ओवैस शाह के 74 रन की बदौलत रॉयल्स ने आसानी से हासिल कर लिया.

ये मैच माइनस 5 डिग्री सेल्सियस में एक जमी हुई झील पर खेला गया था. इस सीरीज का दूसरा मैच भी इसी वेन्यू पर होगा, जिसमें सहवाग की अगुवाई वाली डायमंड की कोशिश सीरीज बचाने की होगी.