नई दिल्ली : शाहिद अफरीदी ने अपनी आत्मकथा ‘गेम चेंजर’ में एक बड़े झूठ को उजागरा किया है जो वह अपने क्रिकेट करियर में अभी तक छुपाते हुए आए थे. अफरीदी ने अपनी आत्मकथा में कहा है कि आधिकारिक दस्तावेजों में उनकी गलत उम्र दर्ज है. एक क्रिकेट वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक, अफरीदी ने अपनी आत्मकथा मे लिखा है कि वह 1975 में जन्में थे ना कि 1980. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने हालांकि अपनी जन्मतिथि का महीना और दिन नहीं बताया है, लेकिन इससे एक बात साबित हो गई है कि अफरीदी अभी तक झूठी उम्र के साथ क्रिकेट खेल रहे थे. Also Read - Australia Tour Of England : क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने अपने खिलाड़ियों को गेंद पर पसीना लगाने से रोका, जानें पूरी डिटेल

Also Read - महेंद्र सिंह धोनी में बड़े शॉट खेलने की काबिलियत थी : सौरव गांगुली

अफरीदी ने 1996 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था तब उनकी उम्र 16 साल की बताई गई थी. अफरीदी ने अपनी आत्मकथा में लिखा है, “रिकॉर्ड में मैं 19 साल का था ना कि 16 साल. मेरा जन्म 1975 में हुआ है. हां अधिकारियों ने मेरी उम्र गलत दर्ज की थी.” Also Read - पूर्व क्रिकेटर की अपील: आफरीदी की तरह संन्यास से वापसी करें सुरेश रैना

गांगुली ने विजय शंकर को किया सपोर्ट, कहा- वर्ल्ड कप 2019 में करेगा अच्छा प्रदर्शन

अफरीदी ने इसी बयान के साथ स्थिति को और अस्पष्ट कर दिया है क्योंकि एक तरफ वह कह रह हैं कि उनका जन्म 1975 में हुआ है. इस लिहाज से जब उन्होंने पदार्पण किया तब वह 20 या 21 साल के थे लेकिन वह खुद अपनी किताब में कह रहे हैं कि वह 19 साल के थे.

अब सवाल यह है कि अफरीदी अपने अभी तक अपनी उम्र को लेकर चुप्पी क्यों साध रखी थी और अब जबकि उन्होंने अपनी असल उम्र का खुलासा खुद कर दिया है तो क्या आईसीसी इस सम्बंध में कोई फैसला लेगा? अफरीदी ने 2016 टी-20 विश्व कप के बाद संन्यास ले लिया था. वह हालांकि कुछ टी-20 लीगों में खेलते आ रहे हैं.