नई दिल्ली: बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन को लगता है कि अफगानिस्तान की टीम भारत के खिलाफ 14 जून से शुरू हो रहे अपने पहले टेस्ट मैच में अच्छा प्रदर्शन करेगी. इस ऐतिहासिक मैच में दो सप्ताह से भी कम समय बचा है और अफगानिस्तान को वैसा ही अनुभव मिलने वाला है जैसा 18 साल पहले बांग्लादेश को मिला था. टेस्ट मैच से पहले अफगानिस्तान को देहरादून में बांग्लादेश के खिलाफ तीन मैचों की टी 20 श्रृंखला की मेजबानी करनी है जिसका पहला मैच रविवार को है.

शाकिब ने कहा, ‘‘वे (अफगानिस्तान) पिछले कुछ वर्षों में काफी लंबा सफर तय कर चुके हैं. उनकी टीम में कई विश्व स्तरीय खिलाड़ी हैं और वे टेस्ट की खेलने की स्थिति में हैं.’’ इस हरफनमौला से जब पूछा गया कि अफगानिस्तान को टेस्ट में किस प्रकार के अनुभव के साथ आगे बढ़ना चाहिये तो उन्होंने कहा, ‘‘प्रारूप के इतर अगर उनकी टीम नियमित रूप से शीर्ष टीमों के साथ खेलती है तो उन्हें अनुभव मिलता रहेगा.’’

धोनी के पास है खिलाड़ियों से अच्छा प्रदर्शन कराने का ‘फॉर्मूला’

बांग्लादेश ने 2000 में भारत के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेला था. टीम ने अब तक 106 टेस्ट खेले हैं जिसमें से उसे सिर्फ 10 में जीत हासिल हुई हैं जबकि 80 में उसे हार का सामना करना पड़ा और 16 मैच ड्रा रहें. हालांकि बांग्लादेश ने पिछले कुछ वर्षों में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी टीमों के खिलाफ जीत दर्ज की हैं.

अफगानिस्तान के कोच फिल सिमंस ने कहा कि राशिद खान और मुजीब जदरान की वजह से टीम स्पिन गेंदबाजी के मामले में मजबूत है तो वहीं बल्लेबाजी उनकी सबसे कमजोर कड़ी है. वेस्टइंडीज के इस पूर्व खिलाड़ी को पता है कि उनकी टीम के खिलाड़ियों को पांच दिवसीय क्रिकेट का अनुभव नहीं है लेकिन फिर भी वह भारत को चुनौती देंगे. सिमंस ने कहा, ‘‘उन्होंने पिछले पांच – छह वर्षों में छोटे प्रारूपों में उम्मीद से बढ़कर प्रदर्शन किया है और कोई कारण नहीं है कि वे टेस्ट में ऐसा नहीं कर सकते हैं.’’