बांग्लादेश के इस स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib al Hasan) आईसीसी के लगाए बैन और कोविड-19 महामारी के बीच अपनी वापसी के दिन गिन रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं दो तरीकों से दिन गिन रहा हूं। पहला, कोरोना वायरस कब खत्म होगा और दूसरा, मेरा निलंबन कब खत्म होगा।”Also Read - ICC Under 19 World Cup 2022 पर कोविड का साया; कनाडा के नौ खिलाड़ियों के पॉजिटिव आने पर दो प्लेट मैच रद्द

प्रोथोम आलो’ समाचार पत्र से बातचीत में शाकिब ने कहा, “मैं मुश्किल समय से गुजर रहा हूं। हालांकि कहीं पर भी कोई क्रिकेट नहीं हो रहा है लेकिन मुझे पता है कि अगर कल ये शुरू हो गया तो मैं क्रिकेट नहीं खेल पाऊंगा।’’ Also Read - ICC U19 World Cup 2022: टीम इंडिया में चोटिल वासु वत्स की जगह आराध्य यादव को मौका

क्रिकेट दोबरा शुरू करने पर आईसीसी के दिशानिर्देशों पर अधिक स्पष्टता की जरूरत

सीनियर ऑलराउंडर शाकिब अल हसन का मानना है कि क्रिकेट दोबारा शुरू करने को लेकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के दिशानिर्देशों में कई सवालों का जवाब नहीं दिया गया है। शाकिब का कहना है कि कोरोना वायरस के कारण निलंबन के बाद क्रिकेट दोबारा शुरू करने से पहले कुछ मुद्दों पर चर्चा करने की जरूरत है। Also Read - Coronavirus in India: पिछले 24 घंटों में COVID-19 के 2.35 लाख नए मामले, 3.35 लाख लोग हुए रिकवर

कोविड-19 महामारी को नियंत्रित करने के लिए लगाई गई पाबंदियों में सदस्य देश ढील दे रहे हैं और ऐसे में आईसीसी ने शुक्रवार को समग्र दिशानिर्देश जारी किए जिससे कि दुनिया भर में खेल को दोबारा शुरू किया जा सके और साथ ही शीर्ष स्तर के सुरक्षा उपाय भी किए जा सकें। इनमें मुख्य चिकित्सा अधिकारी की नियुक्ति, मैच से पूर्व 14 दिन का अलग ट्रेनिंग शिविर और गेंद का इस्तेमाल करते हुए अंपायरों द्वारा ग्लव्स का इस्तेमाल शामिल है।

शाकिब ने कहा, ‘‘अब हम सुन रहे हैं कि ये (कोरोना वायरस) शायद 12 फीट की दूरी से भी फैल सकता है, सिर्फ तीन या छह फीट नहीं। इसका मतलब हुए कि ओवर के अंत में बल्लेबाज एक दूसरे के पास नहीं आ पाएंगे। क्या उन्हें अपने अपने छोर पर ही खड़े रहना होगा? स्टेडियम में क्या कोई दर्शक नहीं होगा? विकेटकीपर क्या दूर खड़ा होगा? करीबी फील्डर्स का क्या होगा? इन चीजों पर चर्चा किए जाने की जरूरत है।’’

आईसीसी ने गेंदबाजों के लिए मैच फॉर्मेट के आधार पर ट्रेनिंग के समय का सुझाव दिया है जिसे उन्हें कम से कम पांच से छह हफ्ते की ट्रेनिंग का मौका मिलेगा। इसमें अंतिम तीन हफ्ते में मैच की स्थिति के अनुरूप ट्रेनिंग होगी जिससे कि टी20 अंतरराष्ट्रीय में उनकी वापसी सुनिश्चित हो सके। शाकिब ने हालांकि कहा कि आईसीसी के स्थिति का उचित आकलन किए बगैर क्रिकेट को दोबारा शुरू करने की स्वीकृति देने की संभावना नहीं है।