केपटाउन टेस्ट में विराट कोहली के गुस्सा दिखाने पर शेन वार्न, एडम गिलक्रिस्ट ने दिया बड़ा बयान

भारतीय टीम केपटाउन टेस्ट में 7 विकेट से हारकर तीन मैचों की सीरीज भी 1-2 से गंवा बैठी।

Published: January 15, 2022 9:20 AM IST

By India.com Hindi Sports Desk | Edited by Gunjan Tripathi

केपटाउन टेस्ट में विराट कोहली के गुस्सा दिखाने पर शेन वार्न, एडम गिलक्रिस्ट ने दिया बड़ा बयान
Shane Warne had played a key role in Australia's ODI World Cup triumph in 1999.

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए केपटाउन टेस्ट के दौरान हुए डीआरएस विवाद के बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के स्टंप माइक कैमरा टीम की आलोचना करने की हरकत को पूर्व दिग्गज पसंद नहीं कर रहे हैं।

Also Read:

पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन (Michael Vaughan) ने कहा कि कोहली को उनकी इस हरकत के लिए जुर्माना या निलंबित करने की जरूरत है। वहीं दक्षिण अफ्रीका के पूर्व बल्लेबाज डेरिल कलिनन को लगता है कि भारत के कप्तान को ‘कड़ी सजा’ दी जाए।

अब पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज शेन वार्न (Shane Warne) और एडम गिलक्रिस्ट (Adam Gilchrist) ने भी मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विकेटकीपर-बल्लेबाज गिलक्रिस्ट ने कहा कि भारतीय कप्तान की निराशा लगातार बढ़ रही थी और फिर वो उस एक क्षण तक पहुंची।

गिलक्रिस्ट ने कहा, “मैं जिस आरोप में दिलचस्पी हूं वो ये कि ये सब पहले से प्लान किया लगता है। ये काफी समय से हो रहा था और फिर उस दिन ये एक ब्रेकिंग प्वाइंट पर पहुंच गया है। गेंद को चमकाने वाली टीमों को कैमरा पर दिखाने के आरोप को मैं मान रहा हूं, ये सभी उस मामले की तरफ वापस जाता है जब ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी कैमरे पर पकड़े गए थे।”

याद दिला दें कि साल 2018 में ऑस्ट्रेलिया के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर न्यूलैंड्स में खेले जा रहे मैच के दौरान ही सलामी बल्लेबाज कैमरून बैनक्रॉफ्ट सैंडपैपर छुपाते हुए कैमरे पर पकड़े गए थे। जिसके बाद उन पर 9 महीने के लिए, जबकि तत्कालीन कप्तान स्टीव स्मिथ और उप कप्तान डेविड वार्नर पर एक-एक साल का बैन लगाया गया था।

डीन एल्गर के विकेट, जिसकी वजह से मामला शुरू हुआ था उस पर बात करते हुए वार्न ने माना कि गेंद स्टंप्स से टकराने जैसी लग रही थी, ‘गेद मिडिल स्टंप पर जा कर सकती, हालांकि ऐसा कोई रास्ता नहीं था कि ये विकेट के ऊपर से जाए’

पूर्व लेग स्पिनर ने इस तरह के फैसले से होने वाली निराशा की ओर इशारा किया जो समय के साथ और बढ़ गई। वार्न ने कहा, “देखो ये एक दिलचस्प मामला है, मुझे यकीन नहीं है कि एक अंतरराष्ट्रीय टीम के कप्तान को ऐसा करना चाहिए। लेकिन कभी-कभी निराशा बढ़ जाती है, आप बस इतना निराश हो जाते हैं और इसलिए मैंने कहा कि मुझे आश्चर्य है कि क्या इस सीरीज में ऐसा तीन या चार बार हुआ है और फिर उन्हें लगा कि बहुत हो गया, अब ऐसा और नहीं हो सकता।”

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 15, 2022 9:20 AM IST