पूर्व लेग स्पिनर शेन वार्न (Shane Warne) ऑस्‍ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग से प्रभावित लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं. शेन वार्न ने  प्रभावित लोगों की मदद के लिए अपनी ऑस्‍ट्रेलियाई टेस्‍ट टीम की कैप को ऑनलाइन ऑक्‍शन (Online Auction) करने का निर्णय लिया. खासबात यह है कि सोमवार सुबह शुरू हुई इस ऑक्‍शन के पहले दो घंटे के दौरान ही 276,500 डॉलर की बोली लग चुकी है. यह प्रक्रिया आगे भी जारी है.

एक ऑस्‍ट्रेलियाई डॉलर की कीमत भारतीय करेंसी में करीब 50 रुपये है. यानि भारतीय रुपये में वो अबतक एक करोड़ 38 लाख 25 हजार रुपये जुटा चुके हैं. शेन वार्न अपने समय में टेस्‍ट क्रिकेट खेलने के दौरान ऑस्‍ट्रेलिया की 350 नंबर की ग्रीन कैप पहनते थे.

 

View this post on Instagram

 

The horrific bushfires in Australia have left us all in disbelief. The impact these devastating fires are having on so many people is unthinkable and has touched us all. Lives have been lost, homes have been destroyed and over 500 million animals have died too. Everyone is in this together and we continue to find ways to contribute and help on a daily basis. This has lead me to auction of my beloved baggy green cap (350) that I wore throughout my test career (when I wasn’t wearing my white floppy hat). I hope my baggy green can raise some significant funds to help all those people that are in desperate need. Please go to the link in my bio and make a bid & help me to donate a big cheque ! Thankyou so much  #australianbushfires

A post shared by Shane Warne (@shanewarne23) on

उन्‍होंने अपने इंस्‍टाग्राम पोस्‍ट पर लिखा, “ऑस्‍ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग के बाद जो हुए उसपर हमें विश्‍वास नहीं होता. इस आग से हम सभी प्रभावित हुए हैं. लोगों ने अपनी जाने गवाई या इससे प्रभावित हुए हैं. करीब 500 मिलियन जानवरों की जंगलों में आग के चलते जानें गई.”

शेन वार्न ने आगे कहा, “हर कोई प्रभावित लोगों की मदद करना चाहता है. मैंने आग के चलते प्रभावित हुए लोगों की मदद के लिए अपनी बैगी ग्रीन कैप (350) नीलाम करने का निर्णय लिया है. इस कैप को मैंने अपने टेस्‍ट करियर के दौरान पहना है. मैं उम्‍मीद करता हूं कि इस कैप को नीलाम करने से इतनी राशि जरूर इकट्ठी हो जाएगी जिससे प्रभावित लोगों की मदद की जा सके.”