नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व लेग स्पिनर और आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स के मेंटॉर शेन वॉर्न का कहना है कि अजिंक्य रहाणे एक शानदार खिलाड़ी हैं और वो जल्दी ही इंडिया की फिफ्टी-फिफ्टी यानी की वनडे टीम में वापसी करेंगे. आईपीएल के 11वें संस्करण में रहाणे का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है. इसी वजह से उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ खेली जाने वाली वनडे और टी-20 टीम से बाहर जाना पड़ा. वार्न ने कहा कि, “मेरा मानना है कि रहाणे निश्चित की निराश होंगे, लेकिन वो शानदार खिलाड़ी हैं. उनमें काफी योग्यता है. हम उनकी क्लास को जानते हैं.” Also Read - India vs Australia: हरभजन सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए चुने भारतीय सलामी बल्लेबाज

Also Read - India vs Australia: इन भारतीय बल्लेबाजों ने खूब मचाई धूम, जानें- विराट हैं कहां

रहाणे के साथ खड़े हुए वॉर्न Also Read - India vs Australia: विराट कोहली के बिना भी टेस्ट सीरीज जीतेगी टीम इंडिया: सुनील गावस्कर

पूर्व आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कहा, “वह अफगानिस्तान के खिलाफ टेस्ट टीम की कप्तानी करेंग. वह अच्छे खिलाड़ी हैं और जल्दी ही टीम में वापसी करेंगे. वह जल्दी ही वनडे और टी-20 खेलते नजर आएंगे.” बता दें कि वॉर्न से पहले भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली भी रहाणे के इंग्लैंड दौरे के लिए चुनी गई टीम इंडिया में नहीं शामिल किए जाने की आलोचना कर चुके हैं.

आर्चर के रहते प्ले ऑफ में जाने की उम्मीद

प्ले ऑफ के लिए आज कोलकाता और राजस्थान करेंगे पटका-पटकी!

प्ले ऑफ के लिए आज कोलकाता और राजस्थान करेंगे पटका-पटकी!

रहाणे के अलावा वार्न ने अपनी टीम में शामिल वेस्टइंडीज के जोफ्रा आर्चर की भी जमकर तारीफ की है. वो शुरुआत के कुछ मैच नहीं खेल पाए थे लेकिन बाद में टीम में शामिल होने के बाद उन्होंने बेहतरीन गेंदबाजी की है और टीम को जीत के रास्ते पर वापस लौटने में मदद की है. वार्न ने आर्चर के बारे में कहा, “आर्चर क्लास खिलाड़ी हैं. उनके रहते हमारे प्लेऑफ में जाने की संभावनाएं बढ़ गई हैं. वह शुरुआत के कुछ मैचों में नहीं खेले इससे निराशा है.”

सचिन, द्रविड़, गांगुली से मिलता था चैलेंज

वार्न ने माना कि सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली के खिलाफ खेलना हमेशा से मुश्किल भरा रहता था. उन्होंने कहा, “इस बात में कोई शक नहीं है कि वह शानदार खिलाड़ी थे. भारत के पास उस समय कई अच्छे खिलाड़ी थे. उन लोगों के खिलाफ खेलना हमेशा से मुश्किल भरा रहता था.”