नई दिल्ली : वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज शेनन गेब्रिएल पर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने एक टेस्ट मैच का प्रतिबंध लगाया है. विंडीज गेंदबाज पर यह प्रतिबंध चटगांव में खेले जा रहे टेस्ट मैच में बांग्लादेश के बल्लेबाज इमरूल कायेस से विवाद के बाद लगा है. आईसीसी ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी. इस प्रतिबंध के कारण गेब्रिएल 30 नवंबर से मीरपुर में शुरू हो रहे टेस्ट मैच में नहीं खेल पाएंगे. Also Read - केविन पीटरसन ने बेन स्टोक्स के कप्तान बनाए जाने पर उठाए सवाल, बोले-मैं उनकी जगह इस खिलाड़ी को चुनता

Also Read - ENG vs WI, 1st Test: 143 साल के क्रिकेट इतिहास में पहली बार होगा बिना दर्शकों के टेस्‍ट

मैच के पहले दिन आठवें ओवर के दौरान गेब्रिएल ने कायेस को कंधा मारा था. गेब्रिएल इस दौरान गेंद करते हुए अपने फॉलो थ्रो में थे. बल्लेबाज इस समय लेग साइड पर रन ले रहा था और उनका ध्यान गेंदबाज की तरफ नहीं था. गेब्रिएल को मैदानी अंपायर अलीम दार ने चेतावनी दी थी लेकिन इसके बाद 10वें ओवर में गेब्रिएल ने कायेस को एक बार फिर कंधा मारा. इसके बाद दोनों में बहस हुई. Also Read - अनिल कुंबले: कोरोना से जंग टेस्‍ट मैच की तरह, पहली पारी की बढ़त पर खुश होने की जरूरत नहीं, आगे...

INDvsAUS: भुवनेश्वर कुमार की गेंद समझ नहीं पाए आरोन फिंच, देखें किस तरह हुए ‘गोल्डन डक’ के शिकार

वेस्टइंडीज के गेंदबाज को इसके बाद दो नकारात्मक अंक मिले और मैच फीस का 30 प्रतिशत जुर्माना लगाया. दो नकारात्मक अंक होने के कारण गेब्रिएल के नकारात्मक अंकों की संख्या पांच हो गई और इसी कारण उन पर आईसीसी ने एक टेस्ट मैच का प्रतिबंध लगाया है.

आईसीसी ने उन्हें अपनी आचार संहिता के अनुच्छेद 2.12 के उल्लंघन का दोषी पाया है जिसमें अंतर्राष्ट्रीय मैच में खिलाड़ी, सपोर्ट स्टाफ, मैच रेफरी और अन्य के साथ शारीरिक विवाद करना शामिल है.

INDvsAUS: क्रुणाल पांड्या ने मैक्सवेल से लिया बदला, देखें किस तरह झटका विकेट

आईसीसी ने अपने बयान में कहा है कि गेब्रिएल ने अपनी गलती मान ली है और मैच रेफरी डेविड बून द्वारा दी गई सजा को कबूल कर लिया है इसलिए कोई औपचारिक सुनवाई की जरूरत नहीं पड़ी. उनके ऊपर यह आरोप मैदानी अंपायर अलीम दार, रिचर्ड इलिंगवर्थ, रूचिरा पालियागुरुगे और मासुदुर रहमान ने लगाए थे.