पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) की एंटी करप्शन यूनिट ने बुधवार को पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) स्पॉट फिक्सिंग मामले में शारजील खान पर पांच साल का बैन लगा दिया है. पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज शारजील अब कम से कम 30 महीनों तक किसी भी तरह की क्रिकेट नहीं खेलने पाएंगे. इसके बाद उन्हें बैन की अवधि पूरी होने तक घरेलू क्रिकेट में खेलने की इजाजत होगी.

शारजील और चार अन्य पाकिस्तानी क्रिकेटरों पर इस साल की शुरुआत में दुबई में आयोजित हुई पीएसएल में स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने का आरोप लगा था. पीसीबी की तीन सदस्यीय एंटी करप्शन यूनिट के प्रमुख अश्गट हैदर ने कहा, शारजील को पांच साल के लिए बैन कर दिया गया, जिसमें से ढाई साल मामले की कार्यवाही के बाद निलंबति हैं.’

5 मार्च को लाहौर में खेले गए पीएसएल के फाइनल के बाद स्पॉट फिक्सिंग के मामले की जांच के लिए पीसीबी ने पूर्व पीसीबी चेयरमैन रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल तौकीर जिया, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम बारी और अश्गट हैदर की तीन सदस्यीय वाली पैनल का गठन किया था.

पैनल ने इस मामले में शारजील के अलावा खालिद लतीफ, मोहम्मद इरफान, नसीर जमेशद और शाहजैब हसन के खिलाफ सुनवाई की. पैनल इस मामले में मोहम्मद इरफान पर एक साल के बैन के साथ भारी जुर्माना लगा चुका है. इस मामले में सजा पाने वाले शारजील दूसरे खिलाड़ी हैं. अभी खालिद, नसीर और शाहजैब के मामलों में फैसला आना बाकी है.