एक संदिग्ध भारतीय सटोरिये द्वारा आईपीएल (IPL) समेत तीन बार पेशकश किए जाने की जानकारी नहीं देने पर बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) पर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने दो साल का प्रतिबंध लगा दिया है जिससे वह तीन नवंबर से शुरू हो रहे भारत दौरे पर नहीं आ सकेंगे.

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना (Prime Minister Sheikh Haseena) और देश के क्रिकेट बोर्ड (BCB) ने निलंबित शाकिब को मदद की पेशकश करते हुए कहा है कि उन्होंने गलती की है लेकिन वह इससे सबक लेकर समझदार होकर वापसी करेंगे.

शाकिब पर एक साल का पूर्ण प्रतिबंध और 12 महीने की अवधि का निलंबित प्रतिबंध लगाया गया है.  यह तब लागू होगा अगर शाकिब आईसीसी की भ्रष्टाचार निरोधक संहिता का पालन नहीं करते हैं.

नई नेशनल क्रश हैं ये क्रिकेटर, ग्राउंड पर छक्के-चौकों के साथ इनकी कातिल अदाओं पर फिदा हैं फैन्स

वह अगले साल इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier league) और ऑस्ट्रेलिया में 18 अक्टूबर से 15 नवंबर 2020 तक होने वाले टी20 विश्व कप (T20 World Cup) में नहीं खेल सकेंगे.

हसीना ने बीडीन्यूज24 से कहा, ‘यह स्पष्ट है कि शाकिब ने गलती की है और उन्हें इसका अहसास है.  सरकार आईसीसी (ICC) के फैसले में कुछ नहीं कर सकती लेकिन बीसीबी (Bangldesh Cricket Board) उनके साथ है. ’

भारत दौरे पर T20 में महमूदुल्लाह जबकि Test में मोमिनुल हक करेंगे बांग्लादेश की कप्तानी

बीसीबी ने एक बयान में कहा, ‘हमें उम्मीद है कि वह बेहतर और समझदार क्रिकेटर बनकर वापसी करेंगे और प्रतिबंध पूरा होने के बाद बांग्लादेश क्रिकेट की कई साल तक सेवा करेंगे. ’

उन्होंने कहा, ‘निलंबन के दौरान बीसीबी क्रिकेट में वापसी के उसके प्रयासों में साथ देगा.  बीसीबी आईसीसी के फैसले का सम्मान करता है और भ्रष्टाचार के खिलाफ उसकी भी यही राय है. ’

बांग्लादेश क्रिकेट टीम को भारत का दौरा करना है जहां उसे तीन टी-20 और दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलनी है.  ऐसे में दौरे से पहले टीम के नियमित कप्तान पर बैन लगना टीम के लिए बड़ा झटका है.