नई दिल्ली. अफगानिस्तान के खिलाफ ऐतिहासिक टेस्ट का पहला दिन दो दमदार भारतीय बल्लेबाज शिखर धवन और मुरली विजय के नाम रहा. इन दोने खिलाड़ियों ने पहले दिन शानदार सैंकड़ा जड़ा और ओपनिंग विकेट के लिए 168 रन की साझेदारी भी की. दोनों ने अपनी शतकीय पारी से वैसे तो कई रिकॉर्ड बनाए. धवन जहां पहले दिन के खेल में लंच से पहले शतक ठोकने वाले पहले भारतीय और दुनिया के छठे बल्लेबाज बने तो वहीं मुरली विजय लगातार तीसरे टेस्ट में शतक जड़ने वाले दुनिया के चौथे बल्लेबाज बने. लेकिन, हम यहां इन रिकॉर्ड्स की बात नहीं करेंगे. बल्कि, हम आपको धवन और विजय का वो रिकॉर्ड बताएंगे जो उन्हें सबसे अलग और दुनिया के बाकी क्रिकेटरों की जमात के बीच नंबर वन का तमगा दिलाता है.

‘गब्बर’ का कोई सानी नहीं

सबसे पहले बात शिखर धवन की. धवन ने अफगानिस्तान के खिलाफ पहली पारी में 96 गेंदों पर 107 रन बनाए, 19 चौके और 3 छक्के की बदौलत. 111.45 की स्ट्राइक रेट से खेली इस धमाकेदारी पारी के दौरान धवन ने 87.85 फीसदी रन बाउंड्रीज के जरिए बनाए. बाउंड्रीज से एक शतकीय पारी में इतने ज्यादा प्रतिशत रन बनाने वाले धवन पहले बल्लेबाज हैं. धवन से पहले ये रिकॉर्ड जी. गिलमर के नाम था,जिन्होंने साल 1977 में न्यूजीलैंड के खिलाफ 86 गेंदों पर 101 रन की पारी के दौरान 85.15 रन बाउंड्रीज से बनाए थे. गिलमर के बाद साउथ अफ्रीका के हर्शल गिब्स का नंबर आता है, जिन्होंने साल 2001 में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेली 124 गेंदों पर 147 रन की पारी में 84.34 फीसदी रन बाउंड्रीज से बनाए थे.

अफगानिस्तान के खिलाफ धवन का धमाकेदार शतक, टेस्ट में ये कमाल करने वाले बने पहले भारतीय

अफगानिस्तान के खिलाफ धवन का धमाकेदार शतक, टेस्ट में ये कमाल करने वाले बने पहले भारतीय

मुरली पर ‘विजय’ आसान नहीं

अब बात टीम इंडिया के दूसरे शतकवीर यानी मुरली विजय के कमाल की. अफगानिस्तान के खिलाफ विजय ने जो सैंकड़ा जड़ा वो उनके टेस्ट करियर का 12वां शतक था. कमाल की बात ये है कि मुरली विजय ने सभी 12 शतक टेस्ट क्रिकेट की पहली पारी में बनाए हैं, जो कि एक रिकॉर्ड है. विजय ने इस मामले में टी. ग्रेवने और एश्ले प्रिंस के 11 शतकों के रिकॉर्ड को तोड़ा है.