नई दिल्ली : भारतीय बल्लेबाज शिखर धवन अंगूठे में फ्रेक्चर के कारण बुधवार को मौजूदा विश्व कप से बाहर हो गये और उनकी जगह युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को टीम में जगह दी गयी. उनके अंगूठे के फ्रेक्चर की जांच की गयी तो पता चला कि इसमें ज्यादा सुधार नहीं हुआ है. धवन (33 वर्ष) को नौ जून को लंदन में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच के दौरान बायें हाथ के अंगूठे में चोट लग गयी थी और शुरू में इसके कारण वह पाकिस्तान (16 जून), अफगानिस्ततान (22 जून) और वेस्टइंडीज (27 जून) के खिलाफ होने वाले मैचों में चयन के लिए उपलब्ध नहीं थे.

टीम के प्रशासनिक प्रबंधक सुनील सुब्रमण्यम ने पत्रकारों को बताया, ‘‘शिखर धवन के बायें हाथ की मेटाकार्पल हड्डी में फ्रेक्चर है. जुलाई के मध्य तक उसके हाथ में प्लास्टर लगा रहेगा जिसके कारण वह आईसीसी 2019 विश्व कप से बाहर हो गये. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने आईसीसी को लिखा है और उनकी जगह ऋषभ पंत को शामिल करने का अनुरोध किया है. ’’

पंत को पांच वनडे मैचों का अनुभव है लेकिन दबाव में नहीं आने की प्रवृति से उन्हें ट्रंप कार्ड माना जा रहा है. वह अम्बाती रायुडू के साथ अधिकारिक स्टैंडबाई की सूची में शामिल थे. पता चला है कि धवन इंग्लैंड के खिलाफ 30 जून को बर्मिंघम में होने वाले मैच के लिये समय पर नहीं उबर पाते. वह इस दर्द के बावजूद खेले थे और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक जड़ा था.

एक सूत्र ने कहा, ‘‘धवन समय पर फिट नहीं हो सकते थे. हालांकि टीम प्रबंधन उनकी जगह खिलाड़ी को शामिल नहीं करना चाहते थे. जबकि चयनकर्ता धवन की चोट का पता चलने के बाद उनकी जगह खिलाड़ी की अधिकारिक घोषणा करना चाहते थे. ’’

शमी का फिट रहना टीम इंडिया के ट्रेनर की सबसे बड़ी उपलब्धि, पढ़ें क्यों है ऐसा

पंत को उनके कवर के तौर पर बुलाया गया था लेकिन टीम प्रबंधन ने धवन के उबरने का इंतजार करने का फैसला किया. अब इस हफ्ते चोट का आकलन किया गया जिसमें चीजें सकारात्मक नहीं दिख रही हैं. इक्कीस वर्षीय खिलाड़ी को पिछले एक साल में शानदार फार्म के बावजूद जब 15 सदस्यीय टीम में नहीं चुना गया था तो काफी विवाद हुआ था.

महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने पंत को टीम में शामिल करने का समर्थन किया. उन्होंने कहा था कि अगर धवन चोट के कारण बाहर हो जाते हैं तो शानदार फॉर्म को देखते हुए दिल्ली का यह खिलाड़ी टीम में शामिल होने का हकदार है.

मां को दर्द न हो इसलिए 150 km/h की रफ्तार की बॉल की चोट खाकर भी उठ खड़ा हुआ बल्लेबाज

पंत ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट दौरे के दौरान शतक जड़े थे. पिछले महीने आईपीएल में भी उसने अच्छा प्रदर्शन किया था जिसमें उन्होंने 160 से ज्यादा के स्ट्राइक रेट से 488 रन बनाये थे. टीम प्रबंधन को शायद इसलिये धवन की चोट की घोषणा करने के लिये बाध्य होना पड़ा क्योंकि भुवनेश्वर कुमार भी चोटिल है. अगर पंत को धवन की जगह शामिल नहीं किया गया होता तो भारत के पास 22 जून को अफगानिस्तान के खिलाफ मैच के चयन के लिये केवल 13 खिलाड़ी ही होते. भुवनेश्वर कुमार हैमस्ट्रिंग चोट के कारण तीन मैचों के लिये बाहर हैं. टीम के ट्रेनर शंकर बासु ने कहा, ‘‘भुवनेश्वर की देखरेख टीम फिजियो पैट्रिक फरहार्ट कर रहे हैं. ’’