भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) में पहली बार शामिल किए जाने के बाद मुंबई के ऑलराउंडर शिवम दूबे (Shivam Dube) इस समय बहुत खुश हैं. शिवम का कहना है कि उन्हें आक्रामक बल्लेबाजी पसंद है और वह इसे कभी नहीं छोड़ेंगे.

रिषभ पंत को मौका देने के मामले में चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने दिया ये बयान

शिवम की विस्फोटक शैली की बल्लेबाजी को देखते हुए चयनकर्ताओं ने उन्हें बांग्लादेश (India vs Bangladesh) के खिलाफ आगामी तीन मैचों की टी-20 सीरीज के लिए टीम में जगह दी है.

इस युवा ऑलराउंडर को चोटिल हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) की जगह चुना गया है जो पीठ की सर्जरी से उबर रहे हैं.

दूबे ने दूसरी पसंद के ऑलराउंडर के तौर पर विजय शंकर (Vijay Shankar) को पीछे छोड़ा और इसमें उनकी ‘बिग हिटिंग’ बल्लेबाजी शैली का अहम योगदान रहा.

मेरी आक्रामक शैली नैसर्गिक है’

पत्रकारों से बातचीत में दुबे ने कहा, ‘मेरी आक्रामक शैली नैसर्गिक है और मैं इस पर काम करता हूं. मेरे पिता हमेशा मुझे आक्रामक बल्लेबाज बनाना चाहते थे और फिर यह मेरी शैली बन गई. मुझे पावर हिटिंग पसंद है.’

टीम इंडिया में 4 साल बाद वापसी करने वाले संजू सैमसन बोले, असफलता से बहुत कुछ सीखा

उन्होंने कहा, ‘मैं भगवान और अपने पिता का शुक्रिया अदा करना चाहूंगा. विशेषकर मेरे पिता को जिन्होंने हमेशा मेरा समर्थन किया और यह उन्हीं का सपना था कि मैं भारत के लिए खेलूं.’

बकौल शिवम, ‘मैं टीम में चुने जाने की उम्मीद कर रहा था. मुझे अपने चयन का भरोसा था. मेरा प्रदर्शन अच्छा रहा था इसलिये मैं टीम में चुना गया.’

मैं कड़ी मेहनत जारी रखूंगा’  

दक्षिण अफ्रीका के महान ऑलराउंडर जैक्स कैलिस (Jacques Kallis) को आदर्श मानने वाले दुबे ने कहा, ‘मैं कड़ी मेहनत करना जारी रखूंगा. मैंने अभी अपने लक्ष्य तय नहीं किये हैं. इस समय मैं खुश हूं. बतौर ऑलराउंडर मुझे पूरी तरह से केंद्रित होना होगा और साथ ही अच्छी फिटनेस भी बनाये रखनी होगी.’

(इनपुट-भाषा)