खतरनाक कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच पूर्व पाकिस्तानी तेज गेंदबाज शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने धर्म और आर्थिक स्थिति भुलाकर एक दूसरे की मदद के लिए आगे आने को कहा है। Also Read - Covid19: महाराष्‍ट्र में 503 लोगों की मौत और 68,631 नए केस, 6 राज्‍य के यात्रियों को RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट जरूरी

अपने यू-ट्यूब चैनल पर पोस्ट किए वीडियो में इस खिलाड़ी ने कहा, “मैं दुनिया भर के अपने फैंस से अपील करता हूं, कोरोनावायरस एक वैश्विक संकट है और हमे धर्म से ऊपर उठकर, एक साथ मिलकर इसका सामना करना है। लॉकडाउन हो रहे हैं ताकि वायरस ना फैले। अगर आप लोगों से संपर्क करेंगे और मिलेंगे तो कोई मदद नहीं होगी।” Also Read - दिल्ली में कोरोना के मामले 25 हजार के पार, 161 और मरीजों की मौत; 29.74 प्रतिशत हुई संक्रमण की दर

अख्तर ने आगे कहा, “यदि आप चीजों को जमा कर रहे हैं, तो कृपया दिहाड़ी मजदूरों के बारे में सोचें। स्टोर खाली हैं। क्या गारंटी है कि आप तीन महीने बाद जिंदा होंगे? दिहाड़ी मजबूरों के बारे में सोंचे, वो अपने परिवार का पोषण कैसे करेंगे? लोगों के बारे में सोंचे, ये समय इंसान बनने का है, ना हिंदू, ना मुस्लिम। लोगों को एक दूसरे की मदद करनी होंगी, फंड एकट्ठा करें, चीजें जमा करना बंद करें।” Also Read - VIDEO | क्या हवा के माध्यम से भी आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है कोरोना वायरस?

उन्होंने कहा, “अमीर लोग को बच जाएंगे, गरीबों का क्या होगा? भरोसा रखें। हम जानवरों की तरह जी रहे हैं, इंसान बनें। मदद करें, सामान जमा करना बंद करें। ये समय है जब हम एक दूसरे का ध्यान रख सकते हैं। अलग होने का समय नहीं है, हमें इंसानों की तरह रहना होगा।”