कोविड-19 वैश्विक महामारी से दुनिया भर में अब तक 40 हजार से अधिक लोगों की जानें जा चुकी हैं. दुनिया भर में कोरोनावायरस से लगभग 8 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं. भारत में इस वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 16 00 तक पहुंच गई है जबकि इससे मरने वालों का आंकड़ा 40 से अधिक हो गया है. पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का मानना है कि पूरा विश्व इस समय कोरोनावायरस की चपेट में है और इससे लोग कंगाल होने के कगार पर हैं. Also Read - राजस्थान में कोरोना वायरस से संक्रमितों का आंकड़ा 10128, अब तक मृतक संख्‍या 219

Coronavirus से खिलाफ जंग में सौरव गांगुली की एक और पहल, बेलूर मठ पहुंचकर किया ये काम Also Read - कोरोना संकट के बीच अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से शुरू होगी, ऐसी कड़ी शर्तों के साथ 3 अगस्त तक चलेगी

अख्तर ने बुधवार को अपने ऑफिशियल टिवटर हैंडल पर लिखा, ‘यह महामारी जितना लोगों के मारेगी नहीं उससे ज्यादा तो उन्हें कंगाल करके छोड़ेगी.’ अख्तर ने इससे पहले इस बीमारी के खिलाफ लोगों को जाति-धर्म से ऊपर उठकर लोगों की मदद करने का अनुरोध किया था. Also Read - Coronavirus Update: देश में 24 घंटे में COVID के सबसे अधिक 9887 मामले, मौतों का भी टूटा रिकॉर्ड

शोएब ने अपने यूटयूब चैनल पर एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने लोगों से अनुरोध किया था कि वे एक वैश्विक कार्यबल के रूप में काम करें और प्रशासन द्वारा जारी दिशा निर्दशों का पालन करें.

अख्तर ने कहा था, ‘दुनिया के सभी प्रशंसकों से मेरा अनुरोध, कोरोनावायरस एक वैश्विक संकट है और हमें एक वैश्विक कार्यबल के रूप में सोचना है तथा धर्म से ऊपर उठकर इसका मुकाबला करना है. लॉकडाउन हो रहा है ताकि यह वायरस फैल न सके. अगर आप लोगों के साथ बैठक कर रहे हैं और उनसे मिलकर बातचीत कर रहे हैं तो इससे मदद नहीं मिलेगी.’

ट्रोलिंग झेलने के बाद युवराज सिंह का बयान आया सामने, बोले- तिल का ताड़ बना दिया, मैंने तो…

उन्होंने कहा, ‘अगर आप इन चीजों को करते हैं तो कृपया दैनिक मजदूरों के बारे में भी सोचें. गोदामें खाली पड़े हैं. इस बात की क्या गारंटी है कि आप तीन महीने बाद जिंदा रहेंगे. दैनिक मजदूरों के बारे में सोचें, कैसे वे अपने परिवार का पालन-पोषण करेंगे. इन लोगों के बारे में सोचें. यह समय मानवता का है न कि हिंदू-मुस्लिम करने का. लोगों को एक-दूसरे की मदद करना होगा.’

गौरतलब है कि इस समय पाकिस्तान में भी कोरोनावायरस से लोग काफी चिंतित हैं. वहां उचित स्वास्थ्य सुविधाएं भी लोगों को नहीं मिल रही है.