नई दिल्ली. ईडन गार्डन्स पर KKR ने 14 गेंद पहले ही CSK से मुकाबला जीत लिया. कमाल की बात ये है कि 6 विकेट से कोलकाता को हासिल हुई जीत में निर्णायक किरदार उस खिलाड़ी ने निभाया जिसने धोनी को जीवनदान दिया था. जी हां, भारतीय क्रिकेट के मक्का कहने जाने वाले ईडन गार्डन्स पर धोनी को जीवनदान देने वाला ही उनकी टीम का भक्षक बन गया. हम बात कर रहे हैं शुभमन गिल की, जिसने चेन्नई के खिलाफ मुकाबले में 36 गेंदों पर 57 रन की नाबाद पारी खेली और अपनी टीम को जीत दिलाकर दम लिया. 6 चौके और 2 छक्के से सजी शुभमन गिल की इस पारी को देखने के बाद कोलकाता के कप्तान दिनेश कार्तिक ने उन्हें स्पेशल टैलेंट माना है. कार्तिक ने मैच खत्म होने के बाद कहा, “शुरुआत में हम गिल को लेकर असमंजस में थे लेकिन जिस तरह वो गेंद को बाउंड्री मार रहे थे वो देखना दिलचस्प था. हम उनके बारे में ज्यादा बात कर उनपर दबाव नहीं डालना चाहते क्योंकि हम जानते हैं वो स्पेशल हैं. ”

धोनी को दिया जीवनदान

गिल का मैच विनिंग नॉक क्यों है खास वो बताएंगे आपको लेकिन उससे पहले उनकी इस पारी का महत्व समझ लीजिए. गिल अगर ये पारी नहीं खेलते तो वो इस मुकाबले में हीरो बनने के बजाए जीरो भी बन सकते थे. ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने CSK की बल्लेबाजी के दौरान 18वें ओवर में महेन्द्र सिंह धोनी का कैच छोड़ दिया था और उन्हें 6 रन मिले थे. बहरहाल धोनी का कैच छोड़ने की भरपाई गिल अपनी बल्लेबाजी में करने में कामयाब रहे, जिससे उनकी टीम को शानदार जीत मिली.

गिल का मास्टर क्लास

अब जरा शुभमन गिल की पारी की विशेषता भी जान लीजिए. 57 रन की नाबाद पारी खेलने के बाद गिल IPL में फिफ्टी जड़ने वाले संजू सैमसन, पृथ्वी शॉ और रिषभ पंत के बाद चौथे सबसे युवा बल्लेबाज बन गए हैं. चेन्नई के खिलाफ गिल ने 158.33 के स्ट्राइक रेट से विस्फोटक पारी खेलते हुए अपने मास्टर क्लास की जोरदार नुमाईश की. उन्होंने 36 में से सिर्फ 18 गेंदे यानी 50 फीसदी गेंदों पर अटैक किया लेकिन फिर भी उन्होंने 9.4 के रन रेट से रन बनाए. गिल ने 5वें विकेट के लिए दिनेश कार्तिक के साथ मिलकर 83 रन जोड़े, जो IPL में इस विकेट के लिए तीसरी बड़ी साझेदारी हैं. इस साझेदारी में कार्तिक ने 18 गेंदों पर नाबाद 45 रन बनाए जिसमें 7 चौके और 1 छक्का शामिल रहा.

गिल को नंबर-4 है भाता

IPL-11 में पहली बार गिल टॉप ऑर्डर में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे थे और उन्होंने मैच विनिंग फिफ्टी जड़ दी. जबकि, इससे पहले उन्होंने नंबर 7 पर चार बार और नंबर 6 पर 1 बार बल्लेबाजी की थी पर उसमें वो ज्यादा सफल नहीं रहे. इसकी वजह का खुलासा करते हुए मैच के बाद गिल ने कहा, “मुझे नंबर चार पर बल्लेबाजी करके मजा आया. मैंने फील्डिंग के दौरान कैच छोड़ा था जिसकी भरपाई मैंने मैच फीनिश कर की.”

KKR से मुकाबले के बाद हरभजन की हुई लड़ाई, कहा- ‘मुझे सरदारी मत सिखा’

KKR से मुकाबले के बाद हरभजन की हुई लड़ाई, कहा- ‘मुझे सरदारी मत सिखा’

शुभमन को टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी कर क्यों मजा आता है उसे जरा उनके इस आंकड़े से समझिए. दरअसल, अंडर-19 क्रिकेट में वो टॉप ऑर्डर में ही बल्लेबाजी करते हैं और इस ऑर्डर पर बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने 15 पारियों में 104.45 की औसत से रन बनाए हैं जिसमें 10 अर्धशतक शामिल हैं.