नई दिल्ली : युवा खिलाड़ी शुभमन गिल को हाल ही में टीम इंडिया में शामिल किया गया है. शुभमन भारतीय टीम के साथ न्यूजीलैंड दौरे पर जायेंगे. उनके सलेक्ट होने के बाद टीम इंडिया के सलेक्टर एमएसके प्रसाद ने कहा कि शुभमन इंटरनेशनल क्रिकेट के लिए तैयार हैं. हालांकि उन्होंने शुभमन के वर्ल्डकप में खेलने की बात पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. प्रसाद ने टीम इंडिया के दूसरे नए खिलाड़ियों का भी जिक्र किया. शुभमन को हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल के विवाद में फंसने के बाद भारतीय टीम में जगह मिली.

चयन समिति के प्रमुख एमएसके प्रसाद युवा शुभमन गिल के बारे में काफी उत्साहित हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि पंजाब का यह प्रतिभाशाली बल्लेबाज अब इंटरनेशनल क्रिकेट के लिये तैयार है. उन्होंने कहा, ‘‘शुभमन पारी का आगाज करने और मध्यक्रम में बल्लेबाजी करने दोनों में सहज है. न्यूजीलैंड सीरीज में हम उसे शिखर (धवन) और रोहित (शर्मा) के पीछे रिजर्व खिलाड़ी के रूप में देख रहे हैं. वह विश्व कप में खेलेगा या नहीं, मैं इस पर टिप्पणी नहीं करूंगा लेकिन उसने न्यूजीलैंड में भारत ए की ओर से सलामी बल्लेबाज के तौर पर शानदार प्रदर्शन किया.’’

वर्ल्डकप 2019 के प्लान का हिस्सा हैं ऋषभ पंत, टीम इंडिया के सलेक्टर ने जमकर की तारीफ

प्रसाद ने कहा, ‘‘हमने राहुल द्रविड़ से चर्चा की कि शुभमन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिये तैयार है. सबसे अहम चीज ए दौरों पर पकड़ रही जिसने इन सभी खिलाड़ियों को बड़ी चुनौतियों के लिये तैयार किया है.’’ हनुमा विहारी, मयंक अग्रवाल, पृथ्वी साव, खलील अहमद जैसे खिलाड़ी भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में काफी प्रभावी रहे हैं जिससे प्रसाद काफी खुश हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं नियमित रूप से रवि और राहुल के साथ खिलाड़ियों की प्रगति पर चर्चा करता रहता हूं. जरा देखिये, हमने रणजी ट्राफी, ए टीम से सीनियर टीम तक खिलाड़ियों की प्रगति की योजना बनायी है. हनुमा विहारी और मयंक अग्रवाल को देखिये.’’

स्मिथ चोटिल होकर BPL से बाहर, इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी में हो सकती है देरी

रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा की जगह कलाई के दो स्पिनरों कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल का वनडे टीम में शामिल करने के जोखिम लेने के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘हमने जब दुनिया के एक और दो नंबर के स्पिनर (आईसीसी रैंकिंग के अनुसार) की जगह दो युवा कलाई के स्पिनरों को शामिल किया. डेढ़ साल के बाद उन्होंने (कुलदीप और चहल) ने भारत की सीमित ओवरों में मिली 70 प्रतिशत जीत में योगदान दिया. ’’