भारत के उदीयमान बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) ने रविवार को डच ओपन (Dutch Open 2019) पुरुष एकल के फाइनल में जापान (Japan) के युसुके ओनोडेरा को हराकर बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर में अपना पहला खिताब जीता.

फाफ डु प्लेसिस बोले- टीम इंडिया सीरीज जीत की हकदार थी, उसे घर में हराना आसान नहीं

विश्व रैंकिंग में 72वें स्थान पर काबिज 18 साल के इस खिलाड़ी ने पहला गेम गंवाने के बाद शानदार वापसी करते हुए 63 मिनट तक चले मुकाबले को 15-21, 21-14, 21-15 से अपने नाम किया.

डच ओपन बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 100 टूर्नामेंट है.

पहले गेम के शुरुआत से ही विश्प रैंकिंग में 160वें स्थान पर काबिज ओनोडेरा ने लक्ष्य पर बढ़त कायम कर ली. लक्ष्य ने हालांकि वापसी करते हुए स्कोर को 10-11 और फिर 13-14 किया लेकिन जापानी खिलाड़ी ने इसके बाद लगातार अंक जुटा कर गेम अपने नाम कर लिया.

लक्ष्य और ओनोडेरा के बीच दूसरा गेम बराबरी के मुकाबले के साथ शुरू हुआ लेकिन लक्ष्य ने 8-5 की बढ़त कायम करने के बाद उसे 12-8 और फिर 18-11 में बदलने के बाद आसानी से गेम जीत कर स्कोर को 1-1 से बराबर किया.

ढिलाई नहीं बरतेंगे, रांची में क्लीन स्वीप करने उतरेंगे : विराट कोहली

निर्णायक गेम में लक्ष्य स्पष्ट योजना के साथ कोर्ट में उतरे और आपने विरोधी खिलाड़ी पर बढ़त बनाने में कामयाब रहे. उन्होंने 9-4 की बड़ी बढ़त हासिल की लेकिन ब्रेक के समय उनकी बढ़त 11-8 की रह गयी. ब्रेक के बाद उन्होंने जापान के खिलाड़ी को कोई मौका नहीं दिया.

लक्ष्य ने इस साल बेल्जियम ओपन का खिताब जीता था जबकि पोलिश ओपन के फाइनल में पहुंचे थे. वह एशियाई जूनियर चैम्पिशिप का खिताब हासिल कर चुके है. इसके अलावा उन्होंने युवा ओलंपिक में रजत और विश्व जूनियर चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता है.