नई दिल्लीः पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को एक बड़ा झटका लगा है. पाकिस्तान सुपर लीग में भाग लेने वाली छह टीमों ने बोर्ड प्रबंधन को बैंक गारंटी देने से मना कर दिया है. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने अगले साल होने वाली टी20 पाकिस्तान सुपर लीग के लिए टीमों से 6 महीने पहले ही बैंक गारंटी देने के लिए कहा था. इस पर टूर्नामेंट में भाग लेने वाली छह टीमों की फ्रैंचाइजियों ने बोर्ड को पत्र लिखकर बैंक गारंटी देने से मना कर दिया. बता दें कि पाकिसतान के इस लीग में कुल छह टीमें भाग लेती हैं जिसमं इस्लामाबाद यूनाइटेड, कराची किंग्स, लाहौर कलंदर्स, मुल्तान सुल्तान, पेशावर जल्मी, क्वेट्टा ग्लैडिएटर्स शामिल हैं.

बॉल टेंपरिंग विवाद से मिली शर्मिंदगी में मरहम है ऑस्ट्रेलिया के लिए एशेज की जीत

हालांकि फ्रैंचाइजी मालिकों ने बोर्ड अध्यक्ष एहसान मनी के साथ बैठक में कहा है कि जब तक पाक क्रिकेट बोर्ड अपने चौथे सत्र के पूरे ऑडिट खाते को उनके पास नहीं भेज देती तब तक वे किसी भी कंडीशन में बोर्ड को बैंक गारंटी नहीं देंगे. जानकारी के अनुसार अभी तक पाकिस्तान ने बेहद स्थिर लीग के रूप में प्रतिष्ठा कमाई थी लेकिन अब बैंक गारंटी न देने से बोर्ड और टीमों के बीच में टकराव की स्थिति बन रही है. ऐसी भी खबरें आ रही हैं कि बोर्ड ने अतीत में कुछ फ्रेंचाइजियों की बैंक गारंटी को तुड़वाया था जब उन्हें भुगतान करने में देरी हो रही थी. इससे टीमों का बोर्ड से भरोसा भी टूटा है.

CPL 2019: टीम की जीत के बाद मैदान में चीयरलीडर्स के साथ जमकर नाचे शाहरुख खान, देखें Video

आपको बता दें कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने पीसीएल के अगले सीजन को पाकिस्तान में ही आयोजित कराने का फैसला लिया है लेकिन खिलाड़ी अभी इस बात पर कुछ भी कहने से इंकार कर रहे है. लोगों का कहना है कि पाकिस्तान के लिए यह आसान नहीं होगा क्योंकि विदेश के ऐसे बहुत से खिलाड़ी है जो पाकिस्तान में खेलने के लिए तैयार नहीं हैं और अब यह देखना होगा कि पाकिस्तान किस प्रकार से उन्हें मनाता है.