कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण क्रिकेट मैच भले ही आयोजित नहीं हो रहे हों बावजूद इसके पाकिस्तानी टीम के खिलाड़ी एक-दूसरे पर आरोप लगाने से खुद को नहीं रोक पा रहे हैं. कोरोनावायरस के कारण खिलाड़ी इस समय अपने घरों में कैद हैं लेकिन इस दौरान वह जमकर खुलासे भी कर रहे हैं. एक दिन पहले ही पूर्व विकेटकीपर जुल्करनैन हैदर ने प्रतिबंधित उमर अकमल पर खराब प्रदर्शन के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया था वहीं अब पूर्व तेज गेंदबाज राणा नावेद उल हसन ने सीनियर खिलाड़ियों को निशाने पर लिया है. Also Read - पूर्व पाक कप्तान ने कहा- सच बोलने वाले को पागल समझा जाता है

‘कप्तान यूनिस खान से नाखुश थे सीनियर खिलाड़ी’ Also Read - कामरान अकमल को क्यों याद आए सचिन तेंदुलकर, MS Dhoni और विराट कोहली, जानें पूरी डिटेल

नावेद ने आरोप लगाया है कि यूएई में न्यूजीलैंड के खिलाफ 2009 में हुई वनडे सीरीज में राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के कई सीनियर खिलाड़ियों ने जानबूझकर खराब प्रदर्शन किया था क्योंकि वह यूनिस खान की कप्तानी से नाखुश थे. Also Read - अबू धाबी T10 लीग के बाद अब इस टूर्नामेंट में जौहर दिखाएंगे 'सिक्सर किंग' युवराज सिंह

पाकिस्तान की ओर से नौ टेस्ट, 74 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय और चार टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेलने वाले 42 साल के राणा ने उस दौरे के विशेष रूप से दो एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों की बात की.

‘जानबूझकर अच्छा प्रदर्शन नहीं किया’

राणा ने स्थानीय समाचार चैनल से कहा, ‘हम 2009 में न्यूजीलैंड के खिलाफ यूएई में दो एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच हार गए क्योंकि कुछ खिलाड़ियों ने जानबूझकर अच्छा प्रदर्शन नहीं किया.’

इस तेज गेंदबाज ने कहा कि वह उस दौरे से इसलिए हट गए थे क्योंकि वह कप्तान के खिलाफ सीनियर खिलाड़ियों की साजिश का हिस्सा नहीं बनना चाहते थे.

दक्षिण अफ्रीका में 2009 चैंपियंस ट्रॉफी के बाद कुछ खिलाड़ी एकजुट हो गए थे और कथित तौर पर यूनिस को हटवाने का प्रयास किया था क्योंकि उन्हें लगता था कि वह अहंकारी और दूसरों को अपमानित करने वाला है.