भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को बुधवार को आधिकारिक रूप से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) का अध्यक्ष चुना गया.

अभिषेक नायर ने 13 साल के फर्स्ट क्लास क्रिकेट करियर को कहा अलविदा

बोर्ड के सालाना आम सभा (AGM) से पहले गांगुली को बीसीसीआई का पूर्णकालिक अध्यक्ष चुन लिया गया. बीसीसीआई ने इसकी घोषणा अपने आधिकारिक टविटर हैंडल के जरिए की. बीसीसीआई ने ट्वीट किया, ‘गांगुली को आधिकारिक रूप से बीसीसीआई का अध्यक्ष चुन लिया गया है.’

It’s official – @SGanguly99 formally elected as the President of BCCI pic.twitter.com/Ln1VkCTyIW

— BCCI (@BCCI) October 23, 2019

बोर्ड ने सौरव गांगुली के साथ कुछ फोटो अपलोड की है जिसमें वे बोर्ड के अध्यक्ष पद का आधिकारिक पत्र संभालते नजर आ रहे हैं. गांगुली बुधवार की सुबह मुंबई स्थित बोर्ड के मुख्यालय पहुंचे.

The General Body Meeting is underway here in the Mumbai Headquarters pic.twitter.com/7u9SZgTlff

— BCCI (@BCCI) October 23, 2019

बीसीसीआई अध्यक्ष (BCCI President) पद के लिए गांगुली (Ganguly) का नामांकन सर्वसम्मति से हुआ है जबकि गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय (Union Home Minister Amit Shah’s son Jay) को सचिव बनाया गया है . उत्तराखंड के महीम वर्मा नए उपाध्यक्ष (Mahim Verma of Uttarakhand is the new vice-president) बने.

‘आर अश्विन के दम पर भारत ने टेस्ट सीरीज में दक्षिण अफ्रीका का किया सूपड़ा साफ ‘

बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष और केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) के छोटे भाई अरूण धूमल (Arun Dhumal) कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है.

जुलाई में पद छोड़ना होगा गांगुली को 

गांगुली (Ganguly) का कार्यकाल नौ महीने का ही होगा और उन्हें जुलाई में पद छोड़ना होगा क्योंकि नए संविधान के प्रावधानों के तहत छह साल के कार्यकाल के बाद ‘विश्राम की अवधि’ अनिवार्य है.

गांगुली बंगाल क्रिकेट संघ के सचिव और बाद में अध्यक्ष Scretary and later President of Cricket Association of Bengal (CAB) पद के अपने अनुभव का पूरा इस्तेमाल करेंगे