भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) का कहना है कि फिटनेस मानकों में हुए सुधार की वजह से ही टीम इंडिया का पेस अटैक दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बन सका है।Also Read - India vs Sri Lanka, 1st T20I: दीपक चाहर के एक ओवर ने पलट दिया मैच का रुख, ये हैं भारत की जीत के 5 कारण

बीसीसीआई के ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में गांगुली ने कहा, “भारत में कल्चर अब बदल गया है, हमारे पास भी अच्छे तेज गेंदबाज हो सकते है। फिटनेस नियम और मानक ना केवल तेज गेंदबाजों के बीच बल्कि बल्लेबाजों के बीच भी काफी बदल गए हैं। इसने सभी को समझाया है कि हम फिट हैं, हम मजबूत हैं और हम दूसरों की तरह तेज गेंदबाजी भी कर सकते हैं।” Also Read - IND vs ENG- Bhuvneshwar Kumar को जल्द मिलेगा इंग्लैंड का टिकट, 3 साल बाद खेल सकते हैं टेस्ट

भारतीय क्रिकेट टीम अपने शानदार बल्लेबाजों के लिए मशहूर रही है। लेकिन अब टीम इंडिया के तेज गेंदबाज विश्व क्रिकेट पर उसी तरह राज कर रहे हैं जैसे 70-80 के दशक में वेस्टइंडीज के पेस गेंदबाज किया करते थे। Also Read - तीन भारतीय खिलाड़ियों के चोटिल होने के बाद इंग्लैंड दौरे पर बैकअप भेजेगी BCCI

पूर्व कप्तान ने उस दौर को याद कर कहा, “मेरे समय की वेस्टइंडीज अटै स्वाभाविक तौर मजबूत था। हम भारतीय कभी स्वाभाविक तौर पर इतने मजबूत नहीं थे। लेकिन हमने मजबूत बनने के लिए कड़ी मेहनत की। लेकिन मुझे लगता है कि कल्चर में बदलाव ज्यादा अहम है।”

इस पेस अटैक का हिस्सा रहे शमी ने भी पिछले महाने दिए बयान में यही बात कही थी। शमी का भी मानना है कि मौजूदा भारतीय पेस अटैक विश्व क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ है।