पिछले साल जब टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया को फैंस की खुशी की ठिकाना नहीं रहा। गांगुली के बीसीसीआई अध्यक्ष पद पर आने के बाद ही टीम इंडिया ने पिंक बॉल से पहला डे-नाइट टेस्ट खेला, जिसके लिए पहले कप्तान विराट कोहली या कोच रवि शास्त्री में से कोई भी राजी नहीं था। Also Read - पश्चिम बंगाल में और छूट और शर्तों के साथ लॉकडाउन की अवधि 15 जून तक बढ़ाई गई

गांगुली के इस राजनीतिक कौशल से प्रभावित होकर इंग्लैंड के पूर्व कप्तान डेविड गॉवर ने कहा कि ये पूर्व भारतीय क्रिकेटर के पास अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का नेतृत्व कर सकता है। गॉवर का मानना ​​है कि गांगुली के पास भविष्य में वैश्विक संस्था का नेतृत्व करने के लिए जरूरी समझ है। Also Read - Mann Ki Baat: मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ के एक दिन बाद 'मन की बात' करेंगे पीएम

गॉवर ने ‘ग्लोफैंस’ के चैट कार्यक्रम ‘क्यू20’ से पहले कहा, ‘‘मैंने इतने सालों में जो कुछ सीखा है, वो ये है कि बीसीसीआई का संचालन करने के लिए अपके पास कई तरह का कौशल और समझ होने चाहिए। उनकी (गांगुली) जैसी प्रतिष्ठा होना (बोर्ड के लिए) बहुत अच्छी शुरुआत है, लेकिन आपको एक बहुत ही विनम्र राजनीतिज्ञ होने की जरूरत है। लाखों चीजों पर आपका नियंत्रण होना चाहिए।’’ Also Read - पंजाब: मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया, कहा- केंद्र के दिशा निर्देशों पर करेंगे अमल

गॉवर ने कहा कि बीसीसीआई के अध्यक्ष का पद विश्व क्रिकेट में सबसे मुश्किल कामों में से एक है। उन्होंने कहा, ‘‘जाहिर है आपको काफी जिम्मेदार होना होगा, भारत में इस खेल के एक अरब से ज्यादा प्रशंसक है।’’

गॉवर ने कहा कि प्रशासनिक कार्यों के लिए राजनीतिक समझ जरूरी है और उन्हें लगता है कि गांगुली इसके लिए सही है। उन्होंने कहा, ‘‘वो शानदार इंसान है और उनके के पास राजनीतिक क्षमता है। उनका रवैया सही है और चीजों को साथ रख सकते हैं। वो अच्छा काम करेंगे। अगर आप बीसीसीआई प्रमुख के रूप में अच्छा काम करते हैं, तो कौन जानता है भविष्य में क्या हो?’’