नई दिल्ली: भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को इस साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक में भारतीय टीम का सदभावना दूत बनने का निमंत्रण दिया है. आईओए महासचिव राजीव मेहता ने पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान गांगुली को भेजे पत्र में कहा, ‘‘आईओए आपको तोक्यो ओलंपिक खेल 2020 में भारतीय टीम का सदभावना दूत बनने का सम्मान प्रदान करता है. हमें उम्मीद है कि आप भारतीय टीम को तहेदिल से अपना समर्थन देंगे. ’’ Also Read - राहुल द्रविड़ बोले- क्रिकेट को भी बनना चाहिए ओलंपिक का हिस्सा

मेहता ने कहा कि यह ओलंपिक विशेष है क्योंकि भारत इन खेलों में भागीदारी के 100 वर्ष पूरा करेगा तथा गांगुली का सहयोग और प्रेरणा भारतीय खिलाड़ियों विशेषकर युवाओं के लिये बहुमूल्य होगा. उन्होंने कहा, ‘‘आप एक अरब लोगों विशेषकर युवाओं के लिये प्रेरणा रहे हो. प्रशासक के तौर पर आपने हमेशा युवा प्रतिभा को तराशा. हमें आशा है कि तोक्यो 2020 में भारतीय टीम को आपके साथ से हमारे युवा खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ेगा. ’’ तोक्यो ओलंपिक खेल 24 जुलाई से नौ अगस्त के बीच खेले जाएंगे. Also Read - 'हम सभी COVID-19 Lockdown में हैं लेकिन मैंने एक दिन भी Practice नहीं छोड़ी'

अर्धशतक से चूके केएल राहुल ने बनाया विश्व रिकॉर्ड, रोहित-कोहली से भी आगे निकले Also Read - ' 314 इंटरनेशनल मैच खेलने के बावजूद ओलंपिक में पदक नहीं जीत पाने का हमेशा रहेगा मलाल'

वहीं दूसरी तरफ तमाम विवादों के बाद बीसीसीआई ने नई क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्‍यों के नाम की घोषणा कर दी. पूर्व भारतीय ऑलराउंडर मदन लाल के अलावा तेज गेंदबाज रहे आर पी सिंह और सुलक्षणा नाईक को तीन सदस्यीय क्रिकेट सलाहकार समिति में शामिल किया गया है.

पिछली सीएसी में कपिल देव, शांता रंगास्वामी और अंशुमन गायकवाड़ थे. सीएसी ने हितों के टकराव का आरोप लगने के बाद पद छोड़ दिया था. जिम्‍मेदारी मिलने के बाद नई सीएसी के समक्ष सबसे पहला काम सीनियर चयनसमिति में कार्यकाल पूरा कर चुके दो सदस्यों की जगह लेने वाले चयनकर्ताओं का चुनाव करना है.