नई दिल्लीः महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास को लेकर अक्सर खबरे आती रहती हैं. धोनी वर्ल्ड कप के बाद से ही मैदान से दूरी बनाए हुए हैं. विश्व कप के बाद से किसी भी सीरीज में हिस्सा न लेने के कारण उनके संन्यास को पर बहस तेज हो रही है. कुछ दिन पहले पूर्व खिलाड़ी अनिल कुंबले ने भी धोनी के बारे में चयनकर्ताओं को अपनी राय दी थी. अब पूर्व कप्तान और दिग्गज खिलाड़ी सौरव गांगुली ने भी महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास को लेकर बड़ा बयान दिया है. गांगुली ने कहा कि कप्तान विराट कोहली और चयनकर्ताओं को जल्द ही उनके संन्यास के बारे में फैसला लेना चाहिए. आपको बता दें कि सौरव गांगुली की कप्तानी में ही महेंद्र सिंह धोनी ने 2004 में एकदिवसीय मैचों में पदार्पण किया था. Also Read - IPL 2020 आयोजन से पहले BCCI दुबई में कर सकता है विशेष ट्रेनिंग कैंप का आयोजन, ये है वजह

World Cup 2019: गजब है क्रिकेट का क्रेज, India Vs Pakistan मैच को 32 करोड़ से अधिक लोगों ने देखा था Also Read - रिषभ पंत बोले- इस बल्‍लेबाज के साथ खेलते वक्‍त दिमाग लगाने की जरूरत ही नहीं पड़ती

यह पहला मौका नहीं है जब गांगुली ने इस तरह का बयान दिया है इससे पहले अगस्त में भी उन्होंने कहा था कि भारतीय टीम को धोनी के बगैर खेलने की आदत डालनी होगी. गांगुली ने कहा था कि धोनी अब ज्यादा लंबे समय तक नहीं खेलेंग. धोनी लगातार सीरीज से बाहर चल रहे हैं और इसके पीछे धोनी भी कुछ कहने से बचते हैं. कुछ सीनियर खिलाड़ियों का मानना है कि धोनी ने भारतीय क्रिकेट को एक नया आयाम दिया है इसलिए संन्यास का फैसला उन पर छोड़ देना चाहिए लेकिन बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष सौरव गांगुली इससे इत्तेफाक नहीं रखते. Also Read - अपने देश में क्रिकेट खेल रहे इंग्‍लैंड का सितंबर में भारत दौरे से पीछे हटना तय, BCCI के कान हुए खड़े !

रवि शास्त्री ने ऋषभ पंत को दी वार्निंग, कहा- खामियाजा भुगतने के लिए तैयार रहो..

एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि वह नहीं जानते कि विराट कोहली क्या सोचते हैं और चयनकर्ताओं के मन में क्या है, लेकिन वे लोग महत्वपूर्ण व्यक्ति है इसलिए उन्हें इस मसले में कोई न कोई फैसला लेना चाहिए. गांगुली से पूर्व अनिल कुंबले ने कहा था कि अगर आगामी टी20 विश्व कप की टीम में धोनी फिट नहीं बैठते तो चयनकर्ताओं को उनके संन्यास के फैसले के बारे में सोचना चाहिए.

दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच चल रही सीरीज के बारे में पूर्व कप्तान ने कहा कि भारत अपने घरेलू मैदान में खेल रही है और यहां वह एक खतरनाक टीम बन जाती है. इसलिए भारत को यहां हराना बहुत मुश्किल है.