नई दिल्ली : महिला टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया को सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा. इस मुकाबले में टीम की दिग्गज खिलाड़ी मिताली राज को प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया गया. मिताली को प्लेइंग इलेवन में न शामिल करने पर कप्तान हरमनप्रीत कौर की काफी आलोचना हुई. इस मसले पर सौरव गांगुली ने भी प्रतिक्रिया दी. गांगुली ने कहा कि जब मैं करियर के चरम पर था तब मुझे भी बाहर का रास्ता दिखाया गया था.

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी गांगुली ने कहा, ‘‘भारत की कप्तानी करने के बाद मुझे भी डगआउट में बैठना पड़ा था. जब मैंने देखा कि मिताली राज को भी बाहर किया गया है तब मैंने कहा कि इस ग्रुप में आपका स्वागत है.’’ गांगुली ने पाक के खिलाफ 2006 में खेले गये दूसरे टेस्ट मैच को याद करते हुए कहा, ‘‘कप्तान आपको बाहर बैठने के लिये कहते हैं तो वैसा करो. मैंने फैसलाबाद में ऐसा किया था. मैं 15 महीने तक वनडे नहीं खेला जबकि मैं संभवत: वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहा था. जिंदगी में ऐसा होता है. कभी कभी दुनिया में आपको बाहर का रास्ता भी दिखाया जाता है.’’

‘हार्दिक ने ब्रिसबेन T20 में खराब प्रदर्शन का उड़ाया था मजाक’, क्रुणाल पांड्या का खुलासा

उन्होंने मिताली के टीम इंडिया में भविष्य को लेकर कहा कि अभी उन्हें और भी मौके मिलेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘आपको हमेशा यह याद रखना चाहिए कि आप बेस्ट हो. क्योंकि आपने अच्छा प्रदर्शन किया है और मौका फिर से आएगा. इसलिए मिताली को बाहर बैठने के लिये कहने पर मुझे निराशा नहीं हुई. मैं मैदान पर प्रतिक्रियाओं को देखकर निराश नहीं हूं.’’ गांगुली ने कहा, ‘‘लेकिन मुझे निराशा है कि भारत सेमीफाइनल में हार गया क्योंकि मुझे लगता है कि वह आगे बढ़ सकता था. ऐसा होता है कि क्योंकि कहा भी जाता है कि जिंदगी में कोई गारंटी नहीं है.’’

विराट कोहली का कहर ऑस्ट्रेलिया पर टूटा, असर न्यूजीलैंड पर दिखा!

बता दें कि वनडे टीम की कप्तान मिताली ने पाकिस्तान और आयरलैंड के खिलाफ अर्धशतक जमाये. लेकिन उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम लीग मैच से आराम दिया गया और इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में भी उन्हें प्लेइंग इलेवन में नहीं रखा गया जिसमें भारत को आठ विकेट से करारी हार झेलनी पड़ी.