नई दिल्ली: भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और वर्तमान बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने सभी से आग्रह किया कि उनकी बेटी सना (Sana Ganguly) को राजनीतिक मुद्दों से दूर रखा जाए. गांगुली ने बुधवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) से संबंधित सना के कथित पोस्ट को ‘झूठा’ करार दिया. गांगुली की बेटी सना की एक कथित इंस्टाग्राम स्टोरी का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था जिसमें 18 वर्षीय ने खुशवंत सिंह के उपन्यास ‘दी एन्ड ऑफ इंडिया’ के कुछ हिस्से साझा किए थे.

ये हैं 18 साल की सना गांगुली, नागरिकता क़ानून पर की ऐसी पोस्ट, ‘दादा’ को देनी पड़ी सफाई

सना की इंस्टाग्राम स्टोरी का यह स्क्रीनशॉट आग की तरह फैलने लगा और लोगों ने उनकी साहस औरपरिपक्वता की प्रशंसा करते हुए विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर इसे पहुंचा दिया. इस पोस्ट कोभारत के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य की आलोचना के रूप में देखा गया था, जो कुछ दिनों पहले नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के अस्तित्व में आने के बाद से देश के विभिन्न हिस्सों में प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच झड़पों के कारण बना हुआ है.

IPL 2020 Auction: नीलामी की तारीख, समय, और स्थान, यहां देखें इवेंट का लाइव स्ट्रीमिंग

हालांकि, गांगुली ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह पोस्ट सच नहीं है और उनकी बेटी राजनीति में कुछ भी जानने के लिए ‘बहुत छोटी’ है. गांगुली ने ट्वीट करते हुए लिखा, “कृपया सना को इन सभी मुद्दों से दूर रखें … यह पोस्ट सच नहीं है … वह राजनीति में कुछ भी जानने के लिए बहुत छोटी है.”

इस विधयेक के पास होने के बाद से देश के कई हिस्सों में जम कर विरोध प्रदर्शन हो रहा है. कुछ प्रदर्शन ने तो हिंसक मोड़ भी ले लिया. फिलहाल पुलिस देश के प्रमुख राज्यों के प्रमुख हिस्सों में तैनात कर दी गई है.