लंदन. विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका की टीम को पाकिस्तान ने बुरी तरीके से हराकर इस मुकाबले से चलता कर दिया है. दक्षिण अफ्रीकी टीम अब विश्व कप-2019 से बाहर हो चुकी है. लिहाजा, टीम के कप्तान की हालत ‘खिसियानी बिल्ली, खंभा नोचे’ वाली हो गई है. जी हां, दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के कप्तान फॉफ डू प्लेसिस (Faf du Plessis) ने रविवार को पाकिस्तान के हाथों मिली हार के बाद कहा कि एक टीम के तौर पर हम अपनी काबिलियत के साथ इंसाफ नहीं कर सके. मैच के बाद उन्होंने अपनी टीम की हार का ठीकरा इंडियन प्रीमियर लीग (IPL-2019) पर फोड़ते हुए कहा कि आईपीएल में व्यस्तता के कारण खिलाड़ियों को आराम नहीं मिल सका, जिसकी वजह से उनकी टीम विश्व कप में नाकाम रही. आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग की ओर से खेलने वाले डू प्लेसिस विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका के प्रमुख गेंदबाज रबाडा (Kagiso Rabada) के शानदार प्रदर्शन न कर पाने के लिए आईपीएल को जिम्मेदार ठहराते दिखे.

फॉफ डू प्लेसिस ने कहा कि उन्होंने और टीम प्रबंधन ने रबाडा को आईपीएल के व्यस्ततम शिड्यूल से खुद को बचाकर रखने को कहा था. उन्होंने रबाडा के ऊपर यह दबाव भी डाला था कि वह आईपीएल में खेलने न जाए, लेकिन ऐसा नहीं हो सका. यही वजह रही कि विश्व के प्रमुख तेज गेंदबाजों में शुमार रबाडा विश्व कप के मुकाबलों में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सके. डू प्लेसिस ने कहा कि अगर रबाडा को आईपीएल के बाद आराम करने का मौका मिला होता, तो आज उनकी टीम को यह दिन देखने की नौबत नहीं आती. आपको बता दें कि आईपीएल में रबाडा दिल्ली कैपिटल्स की ओर से खेल रहे थे.

अफगान टीम के आगे आज होगा बांग्लादेश, टूटेगा सपना या तेज होगी सेमीफाइनल की रेस

अफगान टीम के आगे आज होगा बांग्लादेश, टूटेगा सपना या तेज होगी सेमीफाइनल की रेस

इससे पहले पाकिस्तान ने लॉडर्स स्टेडियम में खेले गए इस अहम मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 49 रनों से हराया. टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने हैरिस सोहेल के 89 और बाबर आजम के 69 रनों की बदौलत 50 ओवरों में सात विकेट पर 308 रन बनाए. जवाब में उसने दक्षिण अफ्रीका को 50 ओवरों में नौ विकेट पर 259 रनों पर सीमित कर दिया. दक्षिण अफ्रीका के लिए कप्तान फॉफ डू प्लेसिस ने 63 रन बनाए. पाकिस्तान की ओर से शादाब खान और वहाब रियाज ने तीन-तीन विकेट हासिल की. मैच के बाद प्लेसिस ने कहा, “हम अच्छा नहीं खेले. हमने इस टूर्नामेंट में अब तक गेंद के साथ अच्छा प्रदर्शन किया था लेकिन आज हम उसमें भी नाकाम रहे. साथ ही हमारी बल्लेबाजी भी नहीं चली. कुल मिलाकर एक टीम के तौर पर हम अपनी काबिलियत के साथ इंसाफ नहीं कर सके. हमारे लिए यही सबसे बड़ी नाकामी रही.”

प्लेसिस ने कहा कि उनकी टीम में क्षमता और काबिलियत की कमी नहीं थी, लेकिन कुछ एक को छोड़कर अन्य कोई भी उसे क्रिकेट के इस महाकुम्भ में मैदान में दिखा नहीं सका. बकौल डू प्लेसिस, “हम उस तरह की क्रिकेट नहीं खेले, जिस तरह की खेल सकते थे. मेरे लिए सबसे बड़ी निराशा की बात यह है कि हमने बार-बार खुद को शर्मसार किया, जबकि हमारे पास विश्व कप में खेल रही सभी टीमों को हराने की क्षमता थी. हम खुद पर यकीन नहीं कर सके और नतीजा यह है कि आज हमारी इस टूर्नामेंट से असमय विदाई हो चुकी है.”

(इनपुट – एजेंसी)