नासिर हुसैन के हरफनमौला प्रदर्शन के बल पर बांग्लादेश-ए क्रिकेट टीम ने शुक्रवार को एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में हुए दूसरे अनधिकारिक एकदिवसीय मुकाबले में भारत-ए को 65 रनों से हरा दिया। बांग्लादेश-ए ने इसके साथ ही तीन मैचों की श्रृंखला में 1-1 से बराबरी कर ली। Also Read - टी20 फॉर्मेट में इंग्लैंड के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं डेविड मलान : नासिर हुसैन

नासिर हुसैन (नाबाद 102) की नाबाद शतकीय पारी की बदौलत बांग्लादेशी टीम ने निर्धारित 50 ओवरों में आठ विकेट पर 252 रन बनाए, जिसके जवाब में भारतीय टीम 187 रन बनाकर 42.2 ओवरों में ढेर हो गई। भारतीय पारी को ढहाने में भी नासिर ने अहम भूमिका निभाई और पांच विकेट चटकाए। Also Read - Dhoni की तरह Helicopter Shot लगाने में माहिर 7 साल की बच्ची का Video Viral, दिग्गजों ने सराहा

रुबेल हुसैन ने भी बेहद कसी हुई गेंदबाजी करते हुए नौ ओवर में 36 रन देकर चार विकेट हासिल किए। Also Read - इंग्लैंड के लिए बल्लेबाजी अभी भी 'सिरदर्द' है: पूर्व कप्तान ने बताया वेस्टइंडीज के खिलाफ हार का कारण

भारतीय गेंदबाजों ने कप्तान उन्मुक्त चंद के पहले गेंदबाजी करने के फैसले को सही ठहराते हुए 82 रनों के कुल योग पर बांग्लादेश के पांच विकेट चटका डाले थे। इसके बाद लिटन दास (45) के साथ नासिर ने छठे विकेट के लिए 70 रनों की साझेदारी कर टीम को संभाल लिया।

नासिर ने अराफात सन्नी (17) के साथ सातवें विकेट के लिए 50 रनों की साझेदारी की। नौवें विकेट के लिए नासिर ने रुबेल हुसैन (नाबाद 9) के साथ बेहद तेज गति से रन जुटाए। नासिर ने रुबेल के साथ 4.5 ओवरों की साझेदारी में 40 रन जोड़ डाले।

नासिर 96 गेंदों पर 12 चौके और एक छक्का लगाकर अंत तक नाबाद रहे।

भारत के सामने लक्ष्य तो बड़ा नहीं था और टीम की शुरुआत भी अच्छी थी। कप्तान उन्मुक्त (56) अर्धशतकीय योगदान दे जवाब पवेलियन लौटे तो भारतीय टीम का स्कोर दो विकेट पर 119 रन था।

इसके बाद 38 रन जोड़ने में भारतीय टीम सुरेश रैना (17) सहित छह विकेट और गंवा बैठी। पहले मैच के हीरो रहे गुरकीरत सिंह (34) ने कुछ हद तक संघर्ष किया, लेकिन उनके अलावा आखिरी के पांच बल्लेबाज दहाई तक भी नहीं पहुंच सके।

भारत पहला मैच 96 रनों से जीतने में सफल रहा था। अब दोनों टीमें 20 सितंबर को इसी स्टेडियम में सीरीज का तीसरा निर्णायक मैच खेलेंगी।