कृष्णागिरि स्टेडियम में हुए दूसरे अनधिकारिक चार दिवसीय टेस्ट मैच के आखिरी दिन शुक्रवार को भारत-ए ने अक्षर पटेल की बेहद धारदार गेंदबाजी के बल पर दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी 76 रनों पर समेट दी और पारी तथा 81 रनों के अंतर से मैच जीत लिया। इसके साथ ही भारतीय टीम ने दो मैचों की श्रृंखला 1-0 से अपने नाम कर ली। इसी स्टेडियम में हुआ पहला टेस्ट ड्रॉ रहा था। Also Read - टेस्ट सीरीज में इंडिया ए ने 1-0 से हासिल की जीत, द.अफ्रीका ए को हराया

भारत ने आठ विकेट पर 417 रनों के तीसरे दिन के स्कोर पर ही अपनी पहली पारी घोषित कर दी और चौथे दिन दक्षिण अफ्रीका-ए को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। Also Read - भारतीय टीम ने द.अफ्रीका ए को बुरी तरह हराया, सिराज ने झटके 10 विकेट

पहली पारी के आधार पर भारत को 157 रनों की बढ़त हासिल थी। Also Read - टेस्ट मैच: मयंक अग्रवाल ने जड़ा तूफानी दोहरा शतका, इंडिया ए ने बनाई 165 रन की बढ़त

अक्षर ने चौथे ओवर की पांचवीं गेंद पर सलामी बल्लेबाज रीजा हेंड्रिक्स (1) को क्लीन बोल्ड कर दक्षिण अफ्रीकी पारी ढहाने की शुरुआत की।

इसके बाद दक्षिण अफ्रीकी टीम रेत की भीत की तरह ढेर होती चली गई। अक्षर की गेंदबाजी का कहर इस कदर रहा कि छह ओवरों में उन्होंने एक भी रन नहीं दिया और चार विकेट चटकाए।

दक्षिण अफ्रीका-ए के लिए क्विंटन डी कॉक (20) सर्वोच्च स्कोरर रहे, जबकि पहली पारी में 96 रनों की शानदार पारी खेलने वाले स्टियान वैन जिल (10) दहाई का आंकड़ा छूने वाले दूसरे मात्र बल्लेबाज रहे।

अन्य भारतीय गेंदबाजों ने भी बखूबी अक्षर का साथ निभाया और दोनों छोर से दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाते रहे।

जयंत यादव ने 10 ओवरों में 10 रन देकर दो विकेट हासिल किए, जबकि शार्दुल ठाकुर, कर्ण शर्मा और बाबा अपराजित को एक-एक विकेट मिला।

ब्यूरॉन हेंड्रिक्स चोट के कारण खेलने नहीं उतर सके।

अक्षर ने पहली पारी में पांच विकेट चटकाए थे और 69 रनों की उम्दा पारी भी खेली थी।

दक्षिण अफ्रीका को पहली पारी में 260 रनों पर समेटने के बाद भारतीय टीम ने जीवनजोत सिंह (52), अभिनव मुकुंद (72), कप्तान अंबाती रायडू (71) और अक्षर की अर्धशतकीय पारियों के बल पर आठ विकेट पर 417 रन बनाए थे।