Sports Latest News: कोरोनावायरस (Coronavirus) के खतरे को देखते हुए एक के बाद एक बड़े टूर्नामेंट के रद्द होने की खबरें बीते कुछ दिनों से लगातार सुनने को मिल रही हैं. भारत-साउथ अफ्रीका (India vs South Africa) वनडे सीरीज भी अब खाली स्‍टेडियम में कराए जाने का निर्णय लिया गया है. ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि क्‍या इंडियन प्रीमियर लीग 2020 (IPL 2020) का आयोजन ऐसे माहौल में संभव है. Also Read - निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के आयोजन में शामिल हुए तमिलनाडु के 110 लोग संक्रमित

आईपीएल फ्रेंचाइजी चाहती हैं कि भले ही खाली स्‍टेडियम में मैच कराए जाएं लेकिन इस टूर्नामेंट का आयोजन हर हाल में होना चाहिए. उनकी मांग है कि वो खाली स्‍टेडियम में मैच कराने से होने वाले नुकसान के बोझ को सह सकते हैं, लेकिन विदेशी खिलाड़ी हर हाल में टूर्नामेंट का हिस्‍सा बनने चाहिएं. Also Read - कोविड-19 महामारी को लेकर शोएब अख्तर ने दिया बड़ा बयान, बोले- कंगाल करके छोड़ेगा कोराना

खेल मंत्रालय और विदेश मंत्रालय पहले ही आईपीएल के आगामी सीजन को टालने की सलाह दे चुके हैं. भारत सरकार द्वारा कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए विदेश से आने वाले लोगों पर आंशिक तौर पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. ऐसे में 15 अप्रैल तक आईपीएल खेलने के लिए अब विदेशी खिलाड़ी भी भारत में प्रवेश नहीं कर पाएंगे. इसके बावजूद बीसीसीआई और फ्रेंचाइजीज हर हाल में आईपीएल का आयोजन कराने पर अमादा है. Also Read - निजामुद्दीन मरकज में जो कुछ भी हुआ, वह राष्ट्र और मानवता के खिलाफ अपराध है: आरिफ मोहम्मद खान

पढ़ें:- Coronavirus Effect: साउथ अफ्रीका के खिलाफ अंतिम 2 वनडे खाली स्टेडियम में कराए जा सकते हैं

आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की शनिवार को मीटिंग होनी है, जिसमें आईपीएल के आयोजन को लेकर अंतिम फैसला लिया जाएगा. न्‍यू एजेंसी आईएएनएस ने फ्रेंचाइजी से जुड़े एक बड़े अधिकारी के हवाले से लिखा, “हमारे लिए गेट मनी यानी फैन्स के स्‍टेडियम में नहीं आने से होने वाला नुकसान बड़ा मुद्दा नहीं है. एक फैन के तौर पर यह काफी निराशाजनक जरूर है, लेकिन हमारे पास इस वक्‍त ज्‍यादा विकल्‍प नहीं है. हमें केन्‍द्र सरकार के आदेश का पालन करना ही होगा. यहां तक की WHO ने भी इसे महामारी घोषित कर दिया है.”

पढ़ें:- पाकिस्तान सुपर लीग पर भी Corona virus का कहर, फैंस का पैसा वापस करेगा पीसीबी

“अब यह चीज तो स्‍पष्‍ट है कि अगर आईपीएल 2020 हुआ तो वो खाली स्‍टेडियम में ही होगा. अब हमें यह निर्णय करना है कि क्‍या हम बिना दर्शकों के आईपीएल चाहते हैं या फिर इस साल आईपीएल देखना ही नहीं चाहते. बीसीसीआई को केन्‍द्र सरकार के अफसरों के साथ बैठना चाहिए और उन्‍हें इस बात के लिए मनाना चाहिए कि विदेशी खिलाड़ी 15 अप्रैल से पहले भारत आ सकें. अन्‍यथा आईपीएल की चमक कम होने लगेगी.”

“टूर्नामेंट की तारीखों को आगे बढ़ा पाना संभव नहीं है क्‍योंकि विदेशी खिलाड़ियों की अपनी राष्‍ट्रीय टीम के लिए पहले से तय कार्यक्रम हैं.”