नई दिल्ली: खेल मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने राष्ट्रीय स्तर की तीरंदाज गोहेला बोरो के इलाज के लिए पांच लाख रुपए की आर्थिक मदद को मंजूरी दे दी. राष्ट्रीय स्तर की तीरंदाज गोहेला बोरो बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखती हैं. गोहेला बोरो एक प्रकार के ऑटो इम्यून रोग से लड़ रही हैं. इस बीमारी में शरीर की प्रतिरोधक प्रणाली ही शरीर के कई हिस्सों में स्वस्थ टिश्यूज को भी नष्ट करने लगती है.

गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्तर की तीरंदाज गोहेला बोरो ‘सिस्टेमेटिक लूपस एरिथेमैटोसस’ और कई दूसरे शारीरिक विकारों से ग्रस्त हैं. वह असम के कोकराझाड़ जिले के अम्गुरी गांव के एक बेहद गरीब परिवार से आती हैं. सिस्टेमेटिक लूपस एरिथेमैटोसस एक स्वप्रतिरक्षित रोग है, जिसमें शरीर की प्रतिरोधक प्रणाली गलती से शरीर के कई हिस्सों में स्वस्थ ऊतकों को निशाना बनाती है.

खेल मंत्रालय के मुताबिक आर्थिक सहायता राशि खिलाड़ियों के लिए बनाए गए पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय कल्याण कोष (पीडीयूएनडब्ल्यूएफएस) से मंजूर की गई है. खेल मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार यह वित्तीय सहायता उस 3.37 लाख रुपए की उस सहायता राशि के अतिरिक्त है जो खिलाड़ी को जनवरी 2018 तक इलाज के लिए दी गई है. ( इनपुट एजेंसी )