नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका के बीच ब्रिस्बेन में डे-नाइट टेस्ट मैच खेला जा रहा है. इस टेस्ट मैच से ऑस्ट्रेलियाई टीम में एक गेंदबाज का डेब्यू हुआ है, नाम है जॉय रिचर्ड्सन. इस गेंदबाज में ऑस्ट्रेलिया अपना फ्यूचर तलाश रहा है और इसकी ठोस वजह भी है. दरअसल, ये गेंदबाज है ही कुछ इस मिजाज का कि सभी इसके कायल हो चुके हैं. हालांकि, अब तक जो इसका जौहर टेस्ट क्रिकेट में देखने को मिल रहा था वो अब सफेद लिबास वाले क्रिकेट के खेल में भी दिखने लगा है. ब्रिस्बेन टेस्ट से क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट को इसने नमस्कार किया और उतरते ही श्रीलंकाई कप्तान का शिकार किया.

कप्तान का ‘कातिल’

7 वनडे में 13 विकेट लेने वाले ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज जॉय रिचर्डसन ने अपने टेस्ट विकेटों का खाता खोल लिया है. इसकी शुरुआत उसने ब्रिस्बेन डे-नाइट टेस्ट मैच में श्रीलंका के कप्तान दिनेश चंडीमल का विकेट चटकाकर किया. रिचर्डसन ने चंडीमल को सिर्फ 5 रन के निजी स्कोर पर पवेलियन की राह पकड़ाई.

‘विराट’ विकेट की बना चुका है ‘हैट्रिक’

टेस्ट क्रिकेट में विरोधी कप्तान का विकेट लेकर खाता खोलने वाले रिचर्डसन की ओपनिंग हालांकि वनडे क्रिकेट में इस अंदाज में नहीं हुई. लेकिन, भारत के खिलाफ जो उन्होंने 3 वनडे की सीरीज खेली उसमें न सिर्फ उन्होंने भारतीय कप्तान विराट कोहली के विकेट से अपना खाता खोला बल्कि तीनों ही मुकाबलों में विराट के विकेट पर उन्होंने अपना ही नाम लिखा. विराट के विकेट की हैट्रिक का फायदा रिचर्ड्सन को ये हुआ कि वो इस सीरीज में सबसे सफल ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज बनकर उभरे. उन्होंने सीरीज के 3 मैचों में 18.66 की औसत से 6 विकेट चटकाए. रिचर्ड्सन ने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत कप्तान के विकेट से की है देखना ये है कि यहां उन्हें कितनी सफलता आगे मिलती है.