नई दिल्ली : स्टीव स्मिथ और कैमरन बैनक्रॉफ्ट ने बॉल टेम्पिरिंग में डेविड वॉर्नर को मुख्य आरोपी बताया. इसके बाद भी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) पूर्व उप-कप्तान को टीम में दोबारा शामिल करने पर गंभीरता से विचार करेगा. इसी साल मार्च में केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में इन तीनों खिलाड़ियों को बॉल टेम्पिरिंग का दोषी पाया गया था. Also Read - IPL SRH Team 2021 Full squad: डेविड वॉर्नर की सेना में जुड़ा तीसरा अफगानी, देखिए सनराइजर्स हैदराबाद का फुल स्क्वॉड

Also Read - IPL Auction 2021: 7 साल बाद आईपीएल नीलामी में बिके चेतेश्वर पुजारा; तालियों के साथ हुआ अभिवादन

स्मिथ और बैनक्रॉफ्ट ने हालिया दौर में इंटरव्यू में इस बात का पूरा दोष वॉर्नर के माथे मड़ दिया था. स्मिथ ने कहा कि उन्हें इस बारे में पता नहीं था और वॉर्नर ने उन्हें ऐसा करने की जानकारी थी, जिसे उन्होंने नजरअंदाज कर दिया जो उनकी बड़ी गलती रही. वहीं बैनक्रॉफ्ट ने भी एक इंटरव्यू में कहा था कि वॉर्नर ने उन्हें गेंद पर सैंडपेपर लगाने को कहा था. Also Read - IPL Auction 2021: आईपीएल इतिहास के सबसे महंगे विदेशी खिलाड़ी बने क्रिस मॉरिस

इन इल्जामों के बाद ऐसा लग रहा था कि सीए वॉर्नर को दोबारा टीम में शामिल करने पर सख्त रवैया अपना सकता है. सीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) केविन रोबर्ट्स ने कहा कि वॉर्नर को टीम में दोबारा शामिल करने को लेकर बोर्ड गंभीरता से विचार करेगा.

बुमराह ने सिर्फ 111kph की रफ्तार से किया शॉन मार्श का शिकार, तोड़ा 39 साल पुराना रिकॉर्ड

एक न्यूज वेबसाइट ने रोबर्ट्स के हवाले से लिखा है, “हमारा ध्यान वॉर्नर के साथ मिलकर काम करने पर है. उनसे मैंने तीन दिन पहले ही टीम में शामिल करने को लेकर बात की है. मुझे लगता है कि इस बात की सबसे ज्यादा जरूरत है कि हमें वार्नर, स्मिथ और बैनक्रॉफ्ट को इस बात का एहसास दिलाने की जरूरत है कि अब वह जो भी करेंगे उससे ऑस्ट्रेलिया को गर्व होगा.”

WATCH: उस्मान ख्वाजा के साथ हुआ ये ‘हादसा’, ऑस्ट्रेलिया को लगा बड़ा झटका!

उन्होंने कहा, “केपटाउन विवाद को नौ महीने गुजर चुके हैं. जांच की जा चुकी है और सजा भी दी जा चुकी है. अब हमारा ध्यान खिलाड़ियों को एक साथ लाने पर है. हमारा ध्यान आगे बढ़ने पर है ताकि हम इस दौरान सभी खिलाड़ियों का समर्थन कर सकें.” सीईओ ने कहा, “हमारा ध्यान सक्रियता से खिलाड़ियों के साथ काम करने पर है न कि बीती बातों पर ध्यान देने पर है.”