नई दिल्ली : राजस्थान रॉयल्स टीम सोमवार को किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ 12वीं इंडियन प्रीमियर लीग के शुरूआती मुकाबले में आमने सामने होंगी तो उसके ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ की निगाहें क्रिकेट में शानदार वापसी पर लगी होगी. स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर दक्षिण अफ्रीका में गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण के बाद एक साल पहले एक वर्ष का प्रतिबंध लगा था.

स्मिथ पिछले साल बांग्लादेश प्रीमियर लीग के दो मैचों में खेलते दिखे थे लेकिन कोहनी की चोट के कारण वह टूर्नामेंट से बाहर हो गये. यह प्रतिबंध केवल राज्य और अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट तक ही सीमित था, घरेलू क्रिकेट या क्लब क्रिकेट के लिये लागू नहीं था. वापसी के लिये आईपीएल सही मायने में शुरूआत होगी और स्मिथ इंग्लैंड में 30 मई से होने वाले विश्व कप से पहले इसका फायदा उठाने का प्रयास करेंगे. स्मिथ हालांकि अभी तक कोहली की चोट से पूरी तरह से नहीं उबर सके हैं और फिटनेस हासिल करने में उन्हें थोड़ और समय लगेगा.

अजिंक्य रहाणे की अगुवाई वाली राजस्थान रॉयल्स इस सत्र की सर्वश्रेष्ठ टीमों में से एक है और वे कल घरेलू हालात का फायदा उठाने के लिये बेताब होंगे. इंग्लैंड के ऑल राउंडर बेन स्टोक्स और जोस बटलर भी टीम का हिस्सा हैं लेकिन ये 25 अप्रैल के बाद उपलब्ध नहीं हो पायेंगे क्योंकि इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने विश्व कप के लिये फरमान जारी किया हुआ है. इसलिये राजस्थान की टीम तब तक ज्यादा से ज्यादा मैच जीतना चाहेगी.

पिच की ‘घपलेबाजी’ ने उड़ाए धोनी के होश, चेन्नई में ‘विराट’ जीत के बाद भी चैन नहीं

स्टोक्स बल्लेबाजी और गेंदबाजी में उनके लिये फिर अहम खिलाड़ी होंगे जबकि किंग्स इलेवन पंजाब की टीम भी चाहेगी कि कल उनका आल राउंडर सैम कुरान बेहतरीन प्रदर्शन करे. उनकी गेंदबाजी में भी काफी गहराई है जिसमें तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट विश्व कप के लिये भारतीय टीम में स्थान हासिल करने पर निगाह लगाये होंगे. वरूण आरोन, धवल कुलकर्णी, जोफ्रा आर्चर, ईश सोढी और कुछ अन्य विकल्प राजस्थान के लिये विभिन्न हालात में आजमाने के लिये मौजूद होंगे.

चेन्नई में RCB के बल्लेबाजों को आया ‘चक्कर’, 70 रन पर नपे ‘फिरकी’ में फंसकर!

वहीं रविचंद्रन अश्विन की अगुवाई वाली पंजाब की टीम अपने सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल और लोकेश राहुल पर निर्भर होगी कि ये उसे आक्रामक शुरूआत दिलाये. वहीं पंजाब की टीम जल्दी ही वेस्टइंडीज के इस विस्फोटक सलामी बल्लेबाज का विकेट झटकने की कोशिश करेगी. कप्तान अश्विन यह साबित करने के लिये बेताब होंगे कि वह इस प्रारूप में भी अंतर पैदा कर सकते हैं. मोहम्मद शमी, एंड्रयू टाई और मुजीबुर रहमान की मौजूदगी से पंजाब की गेंदबाजी मजबूत दिखती है.