नई दिल्ली : पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने शुक्रवार को कहा कि वह आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करके अगले साल होने वाले विश्व कप से पहले फिर से अपनी पुरानी लय में लौटना चाहते हैं. स्मिथ और उनके साथी उप कप्तान डेविड वॉर्नर पर मार्च में दक्षिण अफ्रीका में गेंद से छेड़छाड़ के मामले में शामिल होने के लिये एक साल का प्रतिबंध लगाया गया था. आईपीएल से पहले उन पर लगा प्रतिबंध समाप्त हो जाएगा.

दक्षिण अफ्रीका से लौटने के बाद स्मिथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में रो पड़े थे. इसके बाद उन्होंने अब पहली बार मीडिया का सामना किया. स्मिथ ने कहा, ‘‘अब जिस तरह से एकदिवसीय मैच खेले जा रहे हैं वे एक तरह से टी20 का ही बड़ा रूप लग रहे हैं. इसलिए मुझे लगता है कि टी20 क्रिकेट तैयारी के लिये अच्छा तरीका है और आईपीएल दुनिया के सर्वश्रेष्ठ टूर्नामेंट में से एक है.’’

स्मिथ ने प्रतिबंध के दौरान कई टी20 प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया ताकि वह लय में रहें. इस बीच वह कनाडा और कैरेबियाई देशों में भी खेले. आईपीएल अप्रैल और मई में खेला जाएगा जबकि विश्व कप इंग्लैंड में 30 मई से शुरू होगा. यह 29 वर्षीय क्रिकेटर आईपीएल में राजस्थान रायल्स की तरफ से खेलता है. स्मिथ ने गेंद से छेड़छाड़ के मामले के कारण कप्तानी छोड़ दी थी लेकिन वह फ्रेंचाइजी का हिस्सा बने हुए हैं.

बॉक्सिंग डे टेस्ट में रिकॉर्ड सुधारने उतरेगा, अब तक अनलकी रहा है यह दिन

स्मिथ ने कहा, ‘‘मुझे बांग्लादेश लीग में खेलना था लेकिन मुझे नहीं पता कि अभी वहां क्या हो रहा है. इसके बाद पाकिस्तान लीग और आईपीएल में खेलना है. मुझे लगता है कि अगर मुझे चुना जाता है तो यह विश्व कप के लिये पर्याप्त तैयारी होगी.’’

स्मिथ से गेंद से छेड़छाड़ करने के मामले के बाद के नौ महीनों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह मुश्किल दौर था लेकिन उन्होंने इस तरह की परिस्थितियों से पार पाना सीखा. उन्होंने कहा, ‘‘मेरे अपने उतार चढ़ाव थे. कुछ ऐसे अंधकार भरे दिन थे जब मैं अपने बिस्तर में दुबके रहना चाहता था लेकिन मेरे इर्दगिर्द ऐसे लोग रहे जिन्होंने मुझे यह समझने में मदद की कि सब कुछ ठीक है.’’ स्मिथ ने कहा, ‘‘इन नौ महीनों में मैंने काफी कुछ सीखा. खेल से बाहर रहने पर मुझे तरोताजा होने और फिर से बेहतर मनोस्थिति में आने का समय मिला.’’

न्यूलैंड्स टेस्ट मैच के दौरान ड्रेसिंग रूम में क्या हुआ इस बारे में पूछे जाने पर स्मिथ ने कहा कि वह उनकी नेतृत्वक्षमता की नाकामी थी. उन्होंने कहा, ‘‘कमरे में जो हो रहा था मेरे पास उसे रोकने का मौका था लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया. वह बाहर तक पहुंच गया और मैदान में घटना घटित हो गयी. मेरे पास यह कहने का मौका था कि मैं इस बारे में कुछ नहीं जानता था. यह मेरी नेतृत्वक्षमता की नाकामी थी और मैं उसकी जिम्मेदारी लेता हूं.’’

मेलबर्न टेस्ट: टीम इंडिया को माइकल हसी की सलाह, प्लेइंग इलेवन में इस खिलाड़ी को करें शामिल

स्मिथ से भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वर्तमान सीरीज के बारे में भी पूछा गया. इस बल्लेबाज ने कहा कि बाहर बैठकर मैच देखना आसान नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘विशेषकर तब जबकि खिलाड़ी दो मैचों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाये. यह देखना मुश्किल है यह जानते हुए कि मैं वहां जाकर उनकी मदद नहीं कर सकता. लेकिन खिलाड़ियों ने पिछले सप्ताह पर्थ में जिस तरह का प्रदर्शन किया उस पर मुझे वास्तव में गर्व है.’’

ऑस्ट्रेलिया ने पर्थ में दूसरा टेस्ट मैच 146 रन से जीतकर चार मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर करायी. स्मिथ ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि टिम पेन से जब से कप्तान पद संभाला तब से उनकी नेतृत्वक्षमता बेजोड़ है. निश्चित तौर पर उन्हें विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है लेकिन उन्होंने शानदार भूमिका निभायी है.’’